'मुर्गे-बिरयानी की खातिर' सपा कैबिनेट मंत्री ने जमकर उड़ाई आचार संहिता की धज्जियां, देखें वीडियो

Noida, Uttar Pradesh, India
  'मुर्गे-बिरयानी की खातिर' सपा कैबिनेट मंत्री ने जमकर उड़ाई आचार संहिता की धज्जियां, देखें वीडियो

उड़ी आचार संहिता की धज्जियां, अब उठे प्रशासन पर सवाल

मुरादाबाद/संभल। यूपी के कैबिनेट मंत्री इकबाल महमूद सहित दर्जनों सपा नेताओं द्वारा आदर्श आचार संहिता की जमकर धज्जियां उड़ाने का मामला सामने आया है। औषधि एवं प्रशासन मंत्री इकबाल महमूद ने चुनाव आयोग की अनुमित के बिना ही जनसभा का आयोजन किया और इसी जनसभा में सम्भल नगर पालिका के पूर्व चेयरनमैन व बसपा नेता नुसरत इलाही को समाजवादी पार्टी में शामिल किया। इसके बाद जनसभा में आए सैकड़ों लोगों ने सपा नेताओं के साथ मुर्गे व बिरयानी की दाबत का जमकर लुफ्त उठाया।


जनसभा से लेकर मुर्गे-बिरयानी की दावत तक में कदम दर कदम आदर्श आचार संहिता की जमकर धज्जियां उड़ाई गयी लेकिन जिला निर्वाचन अधिकारी भूपेन्द्र चौधरी कैबिनेट मंत्री व सपा नेताओं पर इस कदर मेहबान है कि जनसभा के 48 घंटे बाद भी आचार संहिता का उल्लघंन करने वाले सपा नेताओं के खिलाफ कोई कार्रावाई नहीं की।

थाना हयातनगर क्षेत्र के सरायतरीन में 11 जनवरी की शाम को एक जनसभा का आयोजन किया गया। इस जनसभा में करीब 2 हजार लोगों एकत्र हुए। जनसभा के मुख्य अतिथि थे, कैबिनेट मंत्री इकबाल महमूद और सदर थे जिलाध्यक्ष फिरोज खां। जनसभा में लम्बे चौड़े वादों और भाषणों के बाद कबीना मंत्री इकबाल महमूद ने नगर पालिका सम्भल के पूर्व चेयरमैन व बसपा नेता को समाजवादी पार्टी ज्वाईन करायी। इसके बाद जमकर नारेबाजी के बाद सपा नेताओं नें कबीना मंत्री और बसपा छोड़ सपा में शामिल हुए, नुसरत इलाही को फूल मालाएं पहनाई।

Image may contain: one or more people, people standing and indoor

सपा में शामिल होते ही नुसरत इलाही नें कहा कि आज मेरी घर वापसी हुई है। इकबाल महमूद मेरे सरपरस्त हैं और मैं सीएम अखिलेश यादव के विकास कार्यों से प्रभावित हूं इसलिए मैंने बसपा छोड़ सपा ज्वाईन की है। आयोजकों ने जनसभा में आए लोगों के खाने पीने का पुरा इंतजाम किया हुआ था। सभा समाप्ति के बाद कबीना मंत्री व सपा नेताओं के साथ ही जनसभा में आये सैकड़ों लोगों ने मुर्गे व बिरयानी की दावत का लुफ्त उठाया। दावत के बाद सपा कार्यकर्त्ताओं नें मंत्री व अन्य सपा नेताओं के साथ फोटों भी खिंचवाएं। इन सब के बीच आचार संहिता की धज्जियां उड़ाई जाती रही लेकिन सत्ता की हनक के आगे प्रशासन नत मस्तक होता रहा।

इस बाबत जब जिलाध्यक्ष फिरोज खां से बात की गई तो उन्होंने सफेद झुठ बोलते हुए जनसभा होने से ही साफ इंकार कर दिया और कहा कि यह चुनावी दावत नहीं थी बल्कि बच्चे का हकीका था। जबकि जनसभा की यह वीडियों व फोटो सच को खुद व खुद बयां कर रहे हैं। सपा में शामिल हुए पूर्व चेयरमैन ने खुद अपने बयान में स्वीकार किया है कि उन्हें सपा मंत्री इकबाल महमूद ने ज्वाईन कराई है और उनकी जनसभा में करीब 2 हजार लोग मौजूद थे।

अब सवाल यह उठता है कि समाजवादी पार्टी के नेता एक साथ सैकड़ों की तादाद में एकत्र होते हैं। खुले मंच पर माईक का इस्तेमाल करते हुए भाषण देते हैं। बसपा नेता को सपा ज्वाईन कराते हैं और फिर मुर्गे व बिरयानी का लुफ्त उठाते हैं और जिला प्रशासन कुम्भकर्णी नींद में सोया रहता है। जिला प्रशासन की यह हरकत कही कबीना मंत्री को बचाने और उनकी नजर में अपने नम्बर बढ़ाने के लिए तो नहीं की गयी।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned