मूवी रिव्यू : पुनर्जन्म के रिश्तों में उलझी सुशांत और कृति की 'राब्ता'

Bhup Singh

Publish: Jun, 09 2017 03:56:00 (IST)

Movie Reviews
मूवी रिव्यू : पुनर्जन्म के रिश्तों में उलझी सुशांत और कृति की 'राब्ता'

मूवी रिव्यू : पुनर्जन्म के रिश्तों में उलझी सुशांत और कृति की 'राब्ता'

फिल्म- राब्ता
निर्देशक -दिनेश विजान
कास्ट- सुशांत सिंह राजपूत, कृति सेनन, जिम सरभ, राजकुमार राव
रेटिंग- 2.5/5



डायरेक्टर दिनेश विजान ने एक बार फिर 'राब्ता' में बिछुड़े प्रेमियों को मिलाने की कोशिश की है। इससे पहले भी बॉलीवुड में पुनर्जन्म की कहानी पर कई फिल्में बन चुकी हैं। करण-अर्जुुन, कर्ज, कुदरत, सूर्यवंशी और ओम शांति ओज जैसी कई फिल्में पुनर्जन्म पर बनाई गई। इनमें से कई फिल्मों को ढेर सारा प्यार मिला तो कई फिल्मों को दर्शकों ने सिरे से नकार दिया। ऐसे देखना ये है कि क्या डायेक्टर दिनेश विजान की इस फिल्म को दर्शकों का भरपूर प्यार मिलेगा। तो आइए इसके लिए जानते हैं इसकी कहानी में है कितना दम।



कहानी

यह कहानी पंजाब के रहने वाले शिव (सुशांत सिंह राजपूत) की है जिसे बैंक की जॉब के लिए बुडापेस्ट बुलाया जाता है और वो अपने दोस्त (वरुण शर्मा) के साथ बुडापेस्ट जाता है। वहां उसकी मुलाकात सायरा (कृति सेनन) से होती है, जो चॉकलेट स्टोर में काम करती है। दोनों की मुलाकात में वन नाईट स्टैंड वाली बात भी हो जाती है। फिर प्यार पनपता है लेकिन सायरा को सपने में हमेशा से ही पिछले जन्म के पल आते रहते हैं। जिसे सोच सोच कर अक्सर उसकी आंख खुल जाती है। फिर कहानी में ट्विस्ट तब आता है जब बिलियनेयर जाकिर मर्चेंट(जिम सरभ) की एंट्री होती है। कहानी में फ्लैशबैक आता है। तो क्या अंत में शिव और सायरा मिल पाते हैं ये पता करने के लिए तो आपको देखनी होगी फिल्म।

डायरेक्शन
कॉकटेल, एजेंट विनोद, फाइंडिंग फैनी और बदलापुर जैसी फिल्मों को प्रोड्यूस करने के बाद दिनेश विजान ने इस फिल्म से डायरेक्शन के फिल्ड में कदम रखा है। पुनर्जन्म जैसी कहानी को परदे पर उतारने में दिनेश फेल हो गए। पहले हाफ तक दर्शकों को बांधे रखने की कोशिश करने के बाद दूसरे हाफ में फिल्म दिनेश के हाथ से पूरी तरह से फिसल गई।

एक्टिंग

शिव के रोल में सुशांत सिंह राजपूत ने जबरदस्त परफॉर्मेंस दी है। प्लेबॉय की इमेज को उन्होंने खूब पकड़ा है। स्क्रीन पर लड़कियों के साथ फ़्लर्ट करते और डायलॉग बाजी करते हुए उन्हें देखना अच्छा लगता है। लेकिन एक योद्धा का किरदार निभाते वक़्त सुशांत के अभिनय का कमजोर पहलू सामने आ जाता है। इस रोल में उनकी एक्टिंग अब ओवर लगने लगती है और एक्शन भी कुछ ख़ास नहीं लगता। कृति सेनन पूरी फिल्म में बेहद ही खूबसूरत नजर आती है। सायरा और साहिबा दोनों ही किरदार में कृति खूबसूरत तो दिखाई देती है। लेकिन अभिनय पर उनकी पकड़ अभी भी मजबूत नहीं हो पाई है। साहिबा के रोल में डायलॉग बोलते वक़्त वो काफी असहज मालूम पड़ती है। विलेन के रूप में जिम सरभ फिट बैठते है लेकिन कमजोर स्क्रिप्ट उनके रोल पर भारी पड़ी है। इसलिए अच्छी परफॉर्मेंस के बाद भी कई सीन में उन्हें देखकर हंसी आ जाती है। वरुण शर्मा और राजकुमार राव का अभिनय ठीक-ठाक कहा जा सकता है। क्योंकि उनके पास भी ज्यादा कुछ करने को नहीं था। दीपिका पादुकोण एक गाने के लिए फिल्म में नजर आती है और एंटरटेनमेंट का फुल डोस देकर जाती है।

संगीत

राब्ता का म्यूजिक अच्छा है। रिलीज से पहले ही इसके गानों को लोगों ने काफी पसंद किया। खासकर राब्ता सांग सुनना काफी सुकून देता है।

देखें या नहीं...
अगर आपको सुशांत सिंह राजपूत और कृति सेनन पसंद हैं। साथ ही पुनर्जन्म पर बेस्ड कहानियां अच्छी लगती हैं, तो एक बार जरूर देख सकते हैं।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned