पनवेल मनपा चुनाव भी अकेले ही लड़ेगी शिवसेना

Jameel Khan

Publish: Apr, 18 2017 10:18:00 (IST)

Jaipur, Rajasthan, India
पनवेल मनपा चुनाव भी अकेले ही लड़ेगी शिवसेना

शिवसेना ने यह कदम हाल ही में हुए रायगढ़ जिला परिषद के चुनावों में मिले मतों के उत्साहजनक आंकड़ों को देखते हुए उठाया है

मुंबई। नवी मुंबई के पनवेल महानगरपालिका का पहला सार्वजनिक चुनाव शिवसेना फिलहाल अकेले ही लड़ने वाली है। सूत्रों से पता चला है कि इस संदर्भ में स्वयं उद्धव ठाकरे की तरफ से इशारा मिल गया है। शिवसेना ने यह कदम हाल ही में हुए रायगढ़ जिला परिषद के चुनावों में मिले मतों के उत्साहजनक आंकड़ों को देखते हुए उठाया है। बीजेपी का साथ छोड़कर अकेले चुनाव लड़ने के शिवसेना के इस निर्णय से शिवसेना व बीजेपी समर्थित मतों के विभाजित होने का खतरा भी है।

इससे बीजेपी और शिवसेना की भी मुश्किलें बढ़ जाएंगी, पर शिवसेना के अकेले चुनाव लड़ने की खबर से एनसीपी, कांग्रेस व शेतकरी कामगार पक्ष (शेकाप) जैसे विरोधी दलों में खुशी की लहर दौड़ गई है। फिलहाल ये तीनों ही प्रमुख दल बीजेपी को (और संभवत: शिवसेना को भी) हर हाल में पराजित करने के लिए एक बड़ा गठबंधन बना सकते हैं। अगर यह गठबंधन हुआ तो पनवेल मनपा के पहले सार्वजनिक चुनाव में लगभग सभी प्रभागों में शिवसेना, बीजेपी व गठबंधन के प्रत्याशियों के बीच तिकोनी लड़ाई होनी तय है।

उद्धव के साथ हुई बैठक में निर्णय
बीते सप्ताह उद्धव ठाकरे की उपस्थिति में शिवसेना की पनवेल शहर इकाई के पदाधिकारियों की एक बैठक हुई थी। दादर के सेनाभवन में हुई इस उच्चस्तरीय बैठक में सांसद अनिल देसाई, सांसद श्रीरंग बारणे, विधायक मनोहर भोईर, शिवसेना जिला संपर्क प्रमुख आदेश बांदेकर सहित कई पदाधिकारी उपस्थित थे। सूत्रों ने दावा किया कि इस बैठक में उपस्थित पनवेल शिवसेना के सभी पदाधिकारियों को उद्धव ठाकरे ने अकेले चुनाव लड़ने की तैयारियों में जुट जाने का संकेत दे दिया है। 1 अक्टूबर 2016 के दिन पनवेल मनपा की स्थापना की घोषणा होने के बाद से ही पनवेल में चुनावी हलचल तेज हो गई थी। इसी के साथ बीजेपी व शिवसेना के साथ में मिलकर या अकेले चुनाव लड़ने के कयास भी लगाए जाने लगे थे।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned