महिलाओं ने पहली बार किया हाजी अली दरगाह पर प्रवेश

Vikas Gupta

Publish: Nov, 29 2016 10:13:00 (IST)

Mumbai, Maharashtra, India
महिलाओं ने पहली बार किया हाजी अली दरगाह पर प्रवेश

2 साल पहले भारतीय मुस्लिम महिला आंदोलन (भामा) ने दरगाह के मुख्य हिस्से में महिलाओं के प्रवेश पर लगे प्रतिबंध को चुनौती दी थी।

मुंबई। मायानगरी मुंबई के हाजी अली दरगाह के अंदरूनी हिस्से में आज मंगलवार को पहली बार महिलाएं प्रवेश किया। लंबी कानूनी कार्यवाही के बाद यह दिन आया है। 2 साल पहले भारतीय मुस्लिम महिला आंदोलन (भामा) ने दरगाह के मुख्य हिस्से में महिलाओं के प्रवेश पर लगे प्रतिबंध को चुनौती दी थी।

24 अक्टूबर को सुप्रीम कोर्ट द्वारा दरगाह में पुरुषों की ही तरह महिलाओं को भी प्रवेश करने की अनुमति देने का फैसला सुनाए जाने के बाद, हाजी अली दरगाह ट्रस्ट ने अदालती फैसले को मानने की घोषणा की। इस बदलाव को लागू करने के लिए ट्रस्ट ने अदालत से 4 हफ्ते का समय मांगा था, ताकि वह दरगाह में जरूरी प्रबंध कर सके। मंगलवार को भामा की महिला कार्यकर्ताओं ने दरगाह में प्रवेश किया। विदित हो कि दरगाह के जिस हिस्से में मजार है, वहां महिलाओं के जाने पर पाबंदी थी।

कार्यकर्ताओं ने फैसले का किया स्वागत
भामा की सह-संस्थापक नूरजहां साफिज नियाज ने बताया कि देश भर की करीब 80 महिलाएं दरगाह में प्रवेश किया। हमने हाजी अली को चादर और फूल चढ़ाया और शांति की दुआ भी की। नूरजहां ने आगे बताया कि दरगाह ट्रस्ट द्वारा महिलाओं और पुरुषों के साथ समान व्यवहार करने और सबको प्रवेश करने की अनुमति देने के फैसले का महिला कार्यकर्ताओं ने तहे दिल से स्वागत किया है।

उन्होंने कहा कि हमारी असली लड़ाई इस लैंगिक भेदभाव के खिलाफ  और संवैधानिक के लिए थी। अब जबकि महिलाएं पुरुषों की ही तरह दरगाह के भीतरी हिस्से में जा सकेंगी, तो हम खुश हैं और उम्मीद करते हैं कि जिंदगी की बाकी चीजों में भी ऐसी ही बराबरी हासिल हो सके।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned