भ्रूण हत्या व बाल अपराध रोकने हमेशा तत्पर रहें

Kajal Kiran Kashyap

Publish: Jun, 21 2017 12:45:00 (IST)

mungeli
भ्रूण हत्या व बाल अपराध रोकने हमेशा तत्पर रहें

ब्लॉक स्तरीय प्रशिक्षण सह कार्यशाला

मुंगेली. समाज में बच्चों के प्रति हिंसा एवं कुरीति को दूर करने की जिम्मेदारी केवल जिला बाल संरक्षण इकाई की ही नहीं, बल्कि सभी विभागीय अधिकारी-कर्मचारी एवं जनप्रतिनिधियों की भी है। भ्रूण हत्या रोकने, बाल अपराध एवं बच्चों के संस्थानीयकरण न हो, इसके लिए हमें हमेशा तत्पर रहना होगा। ये बातें अनुविभागीय अधिकारी (रा.) पथरिया केएस सोरी ने जिला बाल संरक्षण इकाई द्वारा आयोजित विकासखण्ड स्तरीय एक दिवसीय प्रशिक्षण सह कार्यशाला में कही। 

जिला बाल संरक्षण अधिकारी अंजूबाला शुक्ला ने प्रत्येक ग्राम पंचायत को बालमित्र ग्राम पंचायत बनाने तथा ग्राम पंचायत में होने वाली ग्राम सभा में बच्चों की भागीदारी के सम्बन्ध में जानकारी दी। वहीं बच्चों से कोई भी गलत कार्य न कराएं और न ही करने दें, इसकी शपथ उपस्थित प्रशिक्षुओं को दिलायी गई। जेजे एक्ट 2015, किशोर न्याय बोर्ड एवं सम्प्रेक्षण गृह के सम्बन्ध में प्रशिक्षक सामाजिक कार्यकर्ता किशोर न्याय बोर्ड मोहम्मद शमीम ने जानकारी दी। प्रशिक्षक  अरविंद राय ने पॉक्सो एक्ट के तहत् पीडि़त बालिकाओं को दी जाने वाली क्षतिपूर्ति राशि के सम्बन्ध में जानकारी दी। इसी क्रम में विभिन्न नियमों व योजनाओं के बारे में  जानकारी दी गई। बच्चों का मां के गर्भ से ही संरक्षण, कुपोषण, टीकाकरण, पोषण आहार पर पर्यवेक्षक राखी सराफ  ने विस्तृत जानकारी दी। कार्यक्रम का संचालन पदमनी डहरिया एवं आभार प्रदर्शन जिला बाल संरक्षण अधिकारी अंजूबाला शुक्ला ने किया। प्रशिक्षण कार्यक्रम में महिला एवं बाल विकास विभाग के पर्यवेक्षक, स्वास्थ्य विभाग, जिला बाल संरक्षण इकाई, पुलिस विभाग, जनपद पंचायत, शिक्षा विभाग के अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned