लापरवाही पर केन्द्र अधीक्षक को हटाने के लिए दिए निर्देश, एक नर्स निलम्बित

Kajal Kiran Kashyap

Publish: Jun, 21 2017 12:42:00 (IST)

lormi, mungeli
लापरवाही पर केन्द्र अधीक्षक को हटाने के लिए दिए निर्देश, एक नर्स निलम्बित

प्रसूता व नवजात बच्चे की मौत मामले में सीएचसी लोरमी पहुंचे ज्वाइंट डायरेक्टर

लोरमी. सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र लोरमी में डॉक्टर व स्टाफ  की लापरवाही से प्रसूता व दो जुड़वा नवजात बच्चे के मौत के मामले में स्वास्थ्य विभाग के ज्वांइट डायरेक्टर ने एक स्टाफ नर्स को निलबिंत कर दिया है। वहीं दो दिन में पूरे मामले की जांच कर दोषी डॉक्टर व अन्य के खिलाफ कार्रवाई करने की बात कही है। इधर डड़सेना कलार समाज युवा मंच ने एसडीएम को कलेक्टर के नाम ज्ञापन सौंपकर घटना की उच्च स्तरीय जांच कराए जाने की मांग की है।

उल्लेखनीय है कि ग्राम डोंगरिया निवासी सविता जायसवाल पति अनिल जायसवाल उम्र 27 वर्ष  को 17 जून को रात 10 बजे प्रसव पीड़ा होने पर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र लोरमी में भर्ती कराया गया। रात भर प्रसूता दर्द से कराहती रही। सुबह उसकी स्थिती बिगडऩे पर सिम्स रेफ कर दिया गया। सिम्स पहुंचते ही महिला सहित उसके गर्भ में पल रहे दो बच्चे की मौत हो गई। परिजनों का आरोप है कि रात भर प्रसूता दर्द से तड़पती रही लेकिन कोई भी जिम्मेदार डॉक्टर इलाज के लिए नहीं पहुंचा। वही स्टाफ नर्स द्वारा परिजनों से दुव्र्यवहार किया गया। इसके अलावा 19 जून की रात को ग्राम चकला के एक और महिला को प्रसव पीड़ा होने पर एडमिट किया गया। तड़के सुबह प्रसव उपरांत नवजात की मौत हो गई। इस बड़ी घटना के बाद मंगलवार को स्वास्थ्य विभाग के संयुक्त संचालक मधुलिका सिंह सीएमएचओ डॉ. घृतलहरे सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पहुंचे। इस बीच कलार समाज के युवा व सर्वदलीय मंच के नेता राकेश छाबड़ा व अशोक शर्मा ने पीडि़त परिवार के पक्ष में अपना समर्थन देने पहुंचे और उचित कार्रवाई की मांग की गई। संयुक्त संचालक ने बीएमओ डॉ. जीएस दाउ, अधीक्षक डॉ. रूपेश साहू व अन्य डॉक्टर व नर्स से पूछताछ की। वहीं प्रारंभिक जांच में स्टाफ  नर्स कविता गुप्ता को दोषी पाए जाने पर निलंबित कर दिया गया। साथ ही अधीक्षक की नियुक्ति पर सवाल करते हुए तत्काल उन्हें हटाने निर्देशित किया। उन्होंने परिजनों से घटना के संबध में माफी भी मांगी और परिजनों व शिकायतकर्ताओं को आश्वस्त किया कि दो दिन में घटना की जांच होने के बाद जो भी दोषी होंगे, उनके खिलाफ निश्चित ही कार्रवाई करेंगे। इसके अलावा उन्होंने पीड़ीत परिवार को मुआवजा दिलाने संभागायुक्त से बात करने की बात कही है। वहीं व्यवस्था देखने के लिए बनाए गए  अधीक्षक डॉ. रूपेश साहू को संयुक्त संचालक के निर्देश पर हटा दिया गया। उनके जगह डॉ. जितेन्द्र पैकरा अधीक्षक बनाया गया है। गौरतलब है कि डॉ. साहू की लगातार शिकायतें मिल रही थीं। उनके खिलाफ पूर्व में भी लापरवाही और दुव्र्यवहार करने का आरोप भी लग चुका है।

सीएमएचओ कार्यालय का घेराव 22 को
स्वास्थ्य केन्द्र में विभागीय लापरवाही से एक प्रसूता और नवजात बच्चों की मौत के मामले में ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सागर सिंह, थानूराम बघेल, भागवत साहू, शिमांशु दुबे व देवी जायसवाल आदि ने एसडीएम लोरमी को ज्ञापन सौंपा है। ज्ञपन में उच्च स्तरीय जांच टीम गठित करने और दोषी डॉक्टर के खिलाफ  कार्रवाई की मांग को लेकर 22 जून को सीएमएचओ ऑफिस का घेराव करने की चेतावनी दी है। वहीं आरोप लगाया है कि घटना को दबाने व पर्दा डालने के लिए स्टाफ  नर्स को निलबिंत किया गया, जो उस दिन ड्यूटी में उपस्थित थीं, उन्हे बहाल किया जाए और दोषी डॉक्टर पर कार्रवाई की जाए। दूसरी तरफ ग्राम डोंगरिया के पीडि़त परिवार को न्याय दिलाने, दोषी डॉक्टर व स्टाफ के खिलाफ कार्रवाई की मांग एवं पीडि़त परिवार को मुआवजा राशि दिलाने की मांग को लेकर डड़सेना कलार युवा मंच ने मंगलवार को सुबह एसडीएम को ज्ञापन सौंपा है। ज्ञापन सौंपने वालों में मृतका के पति अनिल जायसवाल के अलावा एल्डरमैन शैलेन्द्र जायसवाल, आशीष डड़सेना, सोहन डड़सेना, शरद डड़सेना, आशीष जायसवाल प्रमोद जायसवाल, निक्कू जायसवाल, देवी जायसवाल, मुकेश जायसवाल, रामभरोस, मुकेश, राजेश, संजीत, हेमू, विजय जायसवाल व विवेक जायसवाल आदि शामिल रहे।

बीएमओ डॉ. जीएस दाउ का कहना है कि जेडी के निर्देश पर स्टाफ नर्स कविता गुप्ता को निलंबित किया गया है और संतोषी यादव स्टाफ  नर्स की शिकायत को कार्रवाई के लिए जिला भेजा जा रहा है।  

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned