योगीराज में पुलिस की हालत: दबंग पुलिसकर्मियों को पीटकर चौकी से छुड़ा ले गए आरोपी को

Noida, Uttar Pradesh, India
योगीराज में पुलिस की हालत: दबंग पुलिसकर्मियों को पीटकर चौकी से छुड़ा ले गए आरोपी को

सुबह काफी मशक्‍कत के बाद दोबारा गिरफ्तार किया गया आरोपी

शामली। चैसाना के गांव खोड़समा में घुड़चढ़ी के दौरान डीजे बंद करने को लेकर दो पक्षों के बीच जमकर बवाल हुआ। विनोद कश्यप के बेटे की घुड़चढ़ी में डीजे बंद न करने पर दूसरे पक्ष के योगेश चौधरी से कहासुनी के बाद जमकर पथराव एवं लाठी-डंडे चले, जिसमें विनोद पक्ष से दस और एक दूसरे पक्ष से भी लोग घायल हो गए। पुलिस आरोपी पक्ष योगेश को पकड़ चौसाना चौकी पर लाई और उसे हवालात में बंद कर दिया। इसके बाद आरोपी पक्ष के लोग दरोगा और पुलिसकर्मियों से हाथापाई कर हवालात का ताला-तोड़ आरोपी को छुड़ाकर ले गए। सुबह को पुलिस ने दोबारा आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। इस दौरान योगेश पक्ष के दस नामजद और दस अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। हालांकि, पुलिस का दावा है कि हवालात का ताला नहीं तोड़ा गया।

दरअसल, आपको बता दें कि मामला सोमवार की देर रात का है, जब गांव खोड़समा निवासी विनोद कश्यप के पुत्र मोहित की बारात झिंझाना के गांव जंधेडी में जानी थी। इससे पहले सोमवार रात करीब दस बजे विनोद के घर से मोहित की घुड़चढ़ी प्रारंभ हुई। इस दौरान डीजे बजाकर मेहमान एवं परिजन नाच रहे थे, तभी पड़ोसी योगेश चौधरी ने डीजे बंद करने को कहा। बताया जा रहा है कि इसको लेकर दोनों पक्षों में कहासुनी हो गई। इसके बाद योगेश ने अपने घर की छत पर चढ़कर पथराव शुरू कर दिया, जिसमें राहुल निवासी गंगारामपुर व ब्रजेश घायल हो गए।
बताया जा रहा है कि विनोद ने योगेश के भाई आदेश को फोन कर बुलाया और योगेश को रोकने के लिए कहा, लेकिन योगेश नहीं माना और पथराव करता रहा। इसके विरोध में विनोद पक्ष के लोग भी सामने आ गए।

आमने-सामने आ गए दोनों पक्ष


आरोप है कि इस पर योगेश पक्ष के दर्जनों लोग लाठी-डंडों के साथ सड़क पर आ गए और घुड़चढ़ी में शामिल मेहमानों पर हमला बोल दिया। इससे विनोद पक्ष से राहुल और ब्रजेश समेत दस लोग घायल हो गए, जबकि योगेश पक्ष से भूरा और सुनील घायल हो गए। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और लाठियां फटकार कर भीड़ को तितर-बितर किया व घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया। पुलिस योगेश और विनोद के भाई प्रमोद दोनों को हिरासत में लेकर चौसाना चौकी लेकर आ गई। मामले में सच्चाई जानने पर विनोद के भाई को कुछ देर के बाद छोड़ दिया गया, जबकि योगेश को हवालात में बंद कर दिया।

सुबह गिरफ्तार किया गया आरोपी को


आरोप है कि योगेश पक्ष से दर्जनों लोग चौकी पर पहुंचे। उन्होंने अपने पक्ष से घायल भूरा और सुनील का भी मेडिकल कराने के चिट्ठी लिखने की मांग की। चौकी प्रभारी अनिल राघव ने इसे मना कर दिया व बवाल करने के आरोप में हवालात में बंद करने की चेतावनी दी। इस पर योगेश पक्ष के लोग उग्र हो गए और चौकी प्रभारी दरोगा अनिल राघव व पुलिस कर्मियों से हाथापाई करते हुए हवालात का ताला तोड़कर आरोपी योगेश को छुड़ाकर ले गए। सूचना पर सीओ थानाभवन, झिंझाना थाना और गढ़ीपुख्ता थाना भारी संख्या में पुलिस बल रात में ही आरोपी को पकड़ने के लिए खोड़समा पहुंच गए। सुबह काफी जद्दोजहद के बाद आरोपी योगेश को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने विनोद पक्ष की ओर से दस नामजद और दस अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned