बहन ने आत्महत्या से पहले दीवार पर लिखा- 'मेरे भाई अक्षय को वापस लाकर दो'

Noida, Uttar Pradesh, India
बहन ने आत्महत्या से पहले दीवार पर लिखा- 'मेरे भाई अक्षय को वापस लाकर दो'

इस खबर को पढ़कर भर आएंगी आपकी आंखें

मुजफ्फरनगर। पिता व भाई के शोक से क्षुब्ध अंकित विहार निवासी किशोरी ने फांसी लगाकर जान दे दी। उसका शव घर के कमरे में फांसी पर लटका मिला। उसने दीवार पर लिखा है मेरे भाई अक्षय को वापस ला दो। नई मंडी कोतवाली क्षेत्र के अंकित विहार निवासी एक किशोरी महिमा पुत्री देव प्रकाश ने गुरुवार सुबह आत्महत्या कर ली।

वह मकान के कमरे में उसका शव फांसी पर लटका मिला। उसकी उम्र करीब 16 साल बताई गई है। उसने दीवार पर लिखा है-मेरे भाई अक्षय का वापस ला दो। उसके पिता व भाई पिछले कुछ समय से लापता थे। बीती रात उसकी मां ने पचैंडा के एक पहलवान पर पति, बेटे व रिश्तेदार को बंधक बनाकर यातनाएं देने का आरोप लगाते हुए आत्मदाह की धमकी दी थी। हंगामे के बाद दबाव बढ़ने पर पहलवान ने महिला के पति को तो घायलावस्था में पुलिस के समक्ष पेश कर दिया, लेकिन उसके बेटे व रिश्तेदार अभी भी लापता हैं।

No automatic alt text available.

अंकित विहार निवासी मंजू देवी ने पुलिस आॅफिस में शिकायती पत्र देकर बताया था कि उसके पति देवप्रकाश झांसी में स्थित मछली पालन की झील पर काम करते हैं। यह ठेका गांव पचैंडा निवासी पहलवान का है। महिला के अनुसार उसके पति विगत पांच फरवरी को झांसी से मछली लदा ट्रक लेकर लखनऊ गए थे और वहां मछलियां बेचकर सात फरवरी को मछली बिक्री की लाखों की रकम लेकर लौटते समय संदिग्ध हालात में लापता हो गए थे। इस संबंध में मंजू देवी ने लखनऊ एसएसपी को पति की गुुमशुदगी की तहरीर देकर कार्रवाई की भी गुहार लगाई थी।

पीड़िता का कहना है कि इसी दौरान उसे पता चला कि पति देवप्रकाश को पचैंडा निवासी पहलवान ने ही बंधक बनाकर रखा हुआ है और उन्हें लगातार थर्ड डिग्री जैसी यातनाएं दी जा रही हैं। इस पर मंजू का बेटा अक्षय एक रिश्तेदार के साथ पचैंडा पहुंचा, लेकिन उन्हें भी पहलवान द्वारा बंधक बनाकर यातनाएं देनी शुरू कर दी गई। इस संबंध में जब पहलवान से फोन पर बात की गई तो उसने साढ़े चार लाख रुपयों का इंतजाम कर पति, बेटे व रिश्तेदार को छुड़ाने की शर्त रख दी। पीड़िता ने एसएसपी से पति-बेटे व रिश्तेदार को बंधनमुक्त कराने की मांग करते हुए लखनऊ में आत्मदाह की चेतावनी भी दे डाली।

Image may contain: 4 people, people standing

इस पर एसएसपी ने मामले को गंभीरता से लेते हुए नई मंडी कोतवाली पुलिस को जांच के आदेश दिए, जिस पर नई मंडी पुलिस ने पचैंडा पहुंचकर जांच की। दबाव बढ़ने पर बुधवार रात पहलवान महिला के पति देवप्रकाश को घायल अवस्था में लेकर नई मंडी थाने पहुंचा। देवप्रकाश के शरीर पर गंभीर चोटों के निशानों के साथ ही उसके गले पर भी चोट व कटे के निशान थे। यहां पहलवान ने महिला के बेटे व रिश्तेदार के बारे में अनभिज्ञता जताते हुए केवल देवप्रकाश के ही अपने पास होने की जानकारी दी।

इस पर पुलिस ने देवप्रकाश से बात की तो उसने अपनी पत्नी द्वारा लगाए गए आरोपों को गलत करार दिया। हालांकि उसकी घायल हालत व बार-बार बयान बदलने के चलते पुलिस मामले की गंभीरता से जांच में जुट गई है। उधर महिला का कहना है कि पूरे मामले में एक रसूखदार भाजपा नेता चर्चित पहलवान का पार्टनर है, जिसके दबाव में पुलिस खुलकर काम नहीं कर पा रही है। महिला ने यह भी आशंका जताई कि संभवतः पहलवान ने उसके बेटे व रिश्तेदार को बंधक बनाकर उसके पति को उन दोनों को मारने की धमकी देकर अपने मनमाफिक बयान दिलवाए हैं। यही नहीं, पीड़िता ने बेटे व रिश्तेदार के साथ अनहोनी की भी आशंका जताई है।

इस मामले में गुरुवार को उस समय नया मोड़ आ गया, जब सुबह देव प्रकाश की पुत्री महिमा का शव उसके घर में फांसी पर लटका मिला। बताया गया है कि उसने अपने भाई की बरामदगी ना होने पर यह कदम उठाया। बकायदा दीवार पर उसने फांसी लगाने से पहले जो शब्द लिखें हैं। उनमें कहा गया हैः मेरे भाई अक्षय का वापस लाकर दो। इस सूचना के बाद पुलिस में हड़कंप मच गया। नई मंडी कोतवाली पुलिस सूचना पर वहां पहुंची और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। मामले को लेकर तमाम चर्चाओं का दौर गर्म हो गया।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned