खुशबू की तरह फैलेगा फूलों का व्यापार

vikram ahirwar

Publish: Oct, 19 2016 09:56:00 (IST)

Neemuch, Madhya Pradesh, India
खुशबू की तरह फैलेगा फूलों का व्यापार

इस दीपावली बाहर से कम होगी फूलों की आवक, पिछले वर्ष की तुलना में फूलों का रकबा हुआ दो गुना।



नीमच। जितनी तेजी से खुशबू फैलती है उसी गति से फूलों का व्यापार फैलने की उम्मीद इस बार की दीपावली ला रही है। जिले में फूलों की खेती का रकबा पिछले वर्ष की तुलना में लगभग दो गुना अधिक हो गया है। परंपरागत फूलों के अलावा खुशबूदार और गुलदस्तों में इस्तेमाल किए जाने वाले फूलों का उत्पादन बहुतायत में हो रहा है।

152 हैक्टेयर में हो रही फूलों की खेती

फूलों की खेती के रकबे में इस बार अच्छी बढ़ोतरी हुई है। पूर्व में लगभग 80 हैक्टेयर क्षेत्र में फूलों की खेती हो रही थी। इस वर्ष यह रकबा बढ़कर 152 हैक्टेयर तक पहुंच गया है। इसमें सर्वाधिक रकबा गुलाब का है। गुलाब की खेती 65 हैक्टेयर में की जा रही है जबकि पिछले वर्ष गुलाब का रकबा मात्र 27 हैक्टेयर था। इसके अलावा शेष रकबे में गेंदा, शेवंती, ग्लेग्यूलर, आर्केड के फूल हैं।

पॉली हाउस में फूलों का उत्पादन

नीमच में नई किस्म के फूलों का उत्पादन हो रहा है।नए स्वरूप में मनासा और नीमच क्षेत्र के कुछ किसान पॉलीहाउस में उम्दा किस्म के फूलों की खेती कर रहे हैं। इनमें आर्केड की विभिन्न किस्में शामिल हैं। आर्केड के फूलों का उपयोग गुलदस्ते बनाने में किया जाता है। यह फूल टहनी के साथ काफी खूबसूरत दिखाई देते हैं। अन्य फूलों की तुलना में यह ज्यादा देर तक ताजे रहते हैं।दो पॉलीहाउस में आर्किड की खेती शुरू की गई है। इनके परिणाम भी बेहतर आने की उम्मीद जताई गई है।

50 से अधिक दुकानें सजेंगी फूलों की

इस दीपावली फूल उत्पादक किसानों ने शानदार कारोबार की तैयारी की है। नीमच में दीपावली पर मंदसौर सहित अन्य क्षेत्रों से भी बड़ी तादाद में फूल बिकने आते हैं। लेकिन इस बार नीमच में ही इतनी ज्यादा तादाद में फूलों का उत्पादन होने की उम्मीद है कि अन्य क्षेत्रों के फूलों की आवश्यकता कम ही पड़े। धन तेरस के दिन से ही फूलों की दुकानें लगना शुरू हो जाती है। शहर के फव्वारा चौक से लगाकर मुख्य बाजार सहित विभिन्न गली मोहल्लों में दीपावली के दिनों में सौ से अधिक दुकानें सजती है।

फूलों का उत्पादन अच्छा 

नीमच जिले में इस बार फूलों का उत्पादन अच्छा होने की उम्मीद है। यहां पर सर्वाधिक रकबा गुलाब का बढ़ा है। इसके अलावा गेंदे, शेवंती सहित अन्य फूलों की खेती भी हो रही है। आर्केड नई वैरायटी शुरू हो रही है, इस किस्म के फूल डेकोरेशन या बुके बनाने में इस्तेमाल किए जाते हैं।

-शशिकांत रेजा, जिला उद्यानिकी अधिकारी नीमच



Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned