बिना अनुमति किसानों के खेतों में खड़े कर दिए विद्युत पोल

vikram ahirwar

Publish: Apr, 21 2017 05:51:00 (IST)

Neemuch, Madhya Pradesh, India
बिना अनुमति किसानों के खेतों में खड़े कर दिए विद्युत पोल

ठेकेदार के खिलाफ  मनासा थाने पर रिपोर्ट भी दर्ज करवाई


नीमच/मनासा। ग्रामीणों को बिजली को लेकर किसी प्रकार की कोई समस्या न हो इसके लिए बिजली विभाग द्वारा मनासा विकासखण्ड के कई गांवों में 33 हजार केवी की लाइन डालने का काम किया जा रहा है। जिससे की ग्रामिणों को बारिश एवं अन्य सीजन में किसी प्रकार की कोई समस्या न हो। लेकिन बिजली विभाग द्वारा जिस कंपनी को लाइन डालने का काम दिया गया है।

उस कंपनी के ठेकेदार द्वारा अपने फायदे के लिए किसानों के खेतों में लोहे से बने बिजली के पोल खड़े कर दिए हैं। जो कि किसानों के लिए मुसीबत साबित हो रहे हैं। किसानों ने संबधित कंपनी के ठेकेदार को अपने खेतों में बिजली के पोल नहीं लगाने की बात कही तो ठेकेदार ने फोन पर ही किसानों को धमकी दी एवं कहा कि तुमसे जो बनता है वो कर लो, मैं तुम्हें थाने में बंद करवा दूंगा।

   गांव नलखेड़ा के गोरीशंकर राठौर, सत्यनारायण सेन, जशोदाबाई राठौर, झमकुबाई राठौर एवं प्रकाशचन्द़ शर्मा ने बताया कि भारत इलेक्ट्ऱीक प्रायवेट लिमिटेड कंपनी द्वारा 33 हजार केवी की लाइन डालने का काम किया जा रहा। इसमें कंपनी के ठेकेदार ने हमारी बिना अनुमति के अपने फायदे के लिए खंबे रोड के पास नहीं लगाते हुए सीधे हमारे खेतों में खड़े कर दिए हैं। वही खंबे गिरे नहीं इसके लिए चारों तरफ से तार द्वारा सपोर्ट सिस्टम लगाया गया हैं। हमने ठेकेदार से खंबे खेतों में नहीं लगाने एवं दूसरी जगह लगाने की बोला तो ठेकेदार ने फोन पर ही हमसे अभद्रता की एवं धमकी दी की तुमने मुझे कार्य करने से रोका तो मैं तुम्हे थाने में बंद करवा दूंगा। तुमसे जो बनता है वो कर लो जिसकी शिकायत किसानों ने विधायक कैलाश चावला, मनासा बिजली विभाग के कार्यपालन यंत्री को करने सहित संबधित ठेकेदार के खिलाफ  मनासा थाने पर रिपोर्ट भी दर्ज करवाई।

33 हजार केवी की लाइन डालने का काम बिजली कंपनी की गाइड लाइन के अनुसार किया जा रहा हैं। उसी हिसाब से लाईन डाली जा रही हैं।
-कमल परमार, ठेकेदार,  भारत इलेक्ट्रीक प्रायवेट लिमिटेड कंपनी

यह कार्य एसटीसी विभाग नीमच द्वारा करवाया जा रहा हैं। जांच के लिए संबधित क्षेत्र के कनिष्ठ यंत्री को बताया गया है।
-पीएन सिंधी, कार्यपालन यंत्री मनासा

किसानों को किसी भी समस्या के लिए अपने एरिया के इनचार्ज से बात करना चाहिए था, सीधे ठेकेदार से नहीं।
-एसएस नीगम, कार्यपालन यंत्री एसटीसी नीमच

हांं मेरे पास कुछ किसानों का फोन आया था, लेकिन लाइन डालने का कार्य एसटीसी विभाग द्वारा करवाया जा रहा हैं। ये मेरे अधिकार क्षेत्र में नहीं हैं।
-इमरान कुरेशी, कनिष्ठ यंत्री महागढ ग्रीड

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned