डीआईजी डी रूपा और डीएसपी श्रेष्ठा ठाकुर हैं एक जैसी, जानिए कैसे

Noida, Uttar Pradesh, India
डीआईजी डी रूपा और डीएसपी श्रेष्ठा ठाकुर हैं एक जैसी, जानिए कैसे

डीआईजी डी रूपा की तरह ही डीएसपी श्रेष्ठा ठाकुर ने नेतागिरी के खिलाफ उठाई थी आवाज

नोएडा। यूपी की पुलिस अधिकारी श्रेष्ठा ठाकुर की ही तरह कर्नाटक में तैनात डीआईजी जेल डी रूपा में एक समानता है। वो समानता ये है कि इन्होंने सीधा सरकार के अनुयायियों से टक्कर ले ली। इसका नतीजा यह हुआ कि इन्हें इसका फल तबादले के रूप में मिला। दरअसल कर्नाटक सरकार ने डी रूपा का तबादला महज इसलिए कर दिया क्योंकि उन्होंने बेंगलुरु सेंट्रल जेल में एआइएडीएमके प्रमुख शशिकला को मिलने वाली सुविधा का खुलासा किया था।

अब इस मामले पर उन्होंने कहा कि उन्हें कोई नोटिस नहीं मिली है। अब नोटिस मिलने पर ही वो ​कुछ कहेंगी। इस बीच डीआईजी डी रूपा के तबादले पर राष्ट्रीय महिला आयोग ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। महिला आयोग की सदस्य निर्मला सावंत ने कहा कि सिद्धरमैया सरकार के इस फैसले से गलत संदेश गया है। जबकि कर्नाटक सरकार ने इसे रूटीन तबादला बताया है।

Image may contain: 1 person, standing

अब यहां पर गौर करने वाली बात ये है कि पिछले दिनों बुलंदशहर में बीजेपी नेता को सबक सिखाने वाली महिला पुलिस अधिकारी श्रेष्ठा ठाकुर का बुलंदशहर से बहराइच तबादला कर दिया गया। क्योंकि श्रेष्ठा ठाकुर ने भी स्थानीय बीजेपी नेता समेत पांच लोगों पर पुलिसिया कार्यवाही में दखल देने, साथ ही पुलिस अधिकारी से बदतमीजी से बात करने के आरोप में जेल भेज दिया था।

यहां आपको बता दें कि श्रेष्ठा ठाकुर बुलंदशहर में बतौर सीओ तैनात थीं। वहीं जब जिले के स्याना कस्बे में बीजेपी की जिला पंचायत सदस्य के पति प्रमोद लोधी का ट्रैफिक ​नियम तोड़ने पर चालान कर दिया ​तो प्रमोद पुलिस से ही उलझ गए और मामला हाथापाई पर पहुंच गया था। जिसका वीडियो खुब वायरल भी हुआ था। जिसके बाद पुलिस ने बाइक सीज कर प्रमोद को गिरफ्तार कर लिया।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned