डोपिंग में फंसा चीन, IOC ने लगाया प्रतिबंध

Other Sports
डोपिंग में फंसा चीन, IOC ने लगाया प्रतिबंध

अंतराष्ट्रीय ओलंपिक कमेटी ने चीन से उनके वो तीन स्वर्ण पदक को भी छीन लिया है, जिन्हें उन्होंने 2008 के बीजिंग ओलंपिक में जीता था। इस बीच 8 एथलीटों पर लगे डोपिंग के आरोपों को आईओए द्वारा स्वीकार किया गया है, जोकि डोपिंग टेस्ट में फेल पाए गए थे

वेटलिफ्टिंग में लगातार हो रहे डोपिंग के मामलों को लेकर चीन पर अंतरराष्ट्रीय प्रतिस्पर्धाओं में भाग लेने से प्रतिबंध लगा दिया गया है। यह फैसला चीन के तीन एथलीट के डोपिंग टेस्ट में फेल होने के बाद लिया गया।

अंतराष्ट्रीय ओलंपिक कमेटी ने चीन से उनके वो तीन स्वर्ण पदक को भी छीन लिया है, जिन्हें उन्होंने 2008 के बीजिंग ओलंपिक में जीता था। इस बीच 8 एथलीटों पर लगे डोपिंग के आरोपों को आईओए द्वारा स्वीकार किया गया है, जोकि डोपिंग टेस्ट में फेल पाए गए थे।

बता दें कि पिछले साल ही भारोत्तोलन संघ (आईडब्ल्यूएफ) ने बीजिंग ओलंपिक में लिए गए नमूनों के ड्रग टेस्ट विफल होने के बाद यह नियम बनाया था कि अगर किसी देश के तीन या इससे अधिक एथलीट डोपिंग टेस्ट फेल पाए जाते हैं तो उस देश पर 1 साल का प्रतिबंध लगा दिया जाएगा।

बीजिंग ओलंपिक में 75 किलोग्राम वर्ग में गोल्डमेडल लेने वाली महिला भारोत्तोलक 'को लेइ'(33), 48 किलोग्राम वर्ग में चेन सिएसिया(34) और 69 किलोग्राम वर्ग में लिउ चूंहोंग(31) गोल्डमेडल जीतने में कामयाब हुई थी. लेकिन अब अब इन्हें अपने-अपने पदकों को वापस करना होगा।

डोपिंग टेस्ट में फेल होने का पर्दाफाश पिछली ही साल हो गया था लेकिन प्रतिबंध का ऐलान इस साल बीते मंगलवार को अंतराष्ट्रीय ओलंपिक संघ ने किया है।

वेटलिफ्टिंग की दुनिया में चीन का अच्छा-खासा वर्चस्व रहा है और 2000 सिडनी ओलंपिक के बाद वह हर ओलंपिक में इस स्पर्धा में सर्वाधिक मेडल जीतता रहा है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned