जिला अस्पताल में नहीं फायर सेफ्टी के माकूल इंतजाम

suresh mishra

Publish: Oct, 19 2016 10:17:00 (IST)

Panna, Madhya Pradesh, India
 जिला अस्पताल में नहीं फायर सेफ्टी के माकूल इंतजाम

अस्पताल में लगे एक्सपायरी डेट के आग बुझाने वाले सिलेंडर, सैकड़ों मरीजों और उनके परिजनों की सुरक्षा के हो रहा खिलवाड़


पन्ना
उड़ीसा के भुवनेशवर के एक अस्पताल में आग लगने के बाद 19 मरीजो की मौत हो गई और करीब 100 मरीज झुलस गए थे। इस घटना के बाद पत्रिका की ओर से जिले के सबसे बड़े जिला अस्पताल के सुरक्षा व्यवस्था का भी रियलटी चेक किया गया। इस दौरान पाया गया कि अस्पताल परिसर में हर समय उपस्थित रहने वाले सैकड़ों मरीजों, परिजनों डॉक्टरों और पैरामेडिकल स्टाफ की सुरक्षा के साथ गंभीर लापरवाही बरती जा रही हैं। यहां तक कि अस्पताल की ओटी जैसे महत्वपूर्ण जगह पर लगा आग बुझाने वाला सिलेंडर के रिफलिंग की डेट भी एक्सपायरी हो चुकी है।

गौरतलब है कि पन्ना के जिला अस्पताल में भुवनेश्वर के अस्पताल की घटना के बाद यह सामने आया कि इस तरह के हादसे तो कहीं भी हो सकते हैं। इसको लेकर मंगलवार की दोपहर में जिला अस्पताल की सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया गया। अस्पताल के मेल मेडिकल वार्ड की गैलरी में मवेशी डस्टबिन में पड़ी सामग्री को खा रहा था।


ये भी पढ़े: डेढ़ साल की इस मासूम के शरीर मेें नाम मात्र प्रोटीन, त्चचा से रिसने लगा पानी

जबकि मवेशी को वार्ड की गैलरी में घुसे देखने के बाद भी सुरक्षा और सफाई कर्मी मौन बने हुए थे। अस्पताल के पुराने भवन की ओपीडी में लाग आग बुझाने वाला सिलेंडर के रिफिलिंग के लिए निर्धारित तिथि निकल चुकी थी। इसके बाद भी सिलेंडरों को रिफिल नहीं कराया गया था।


ये भी पढ़े: जज्बे को सलाम, गर्भवती को पार कराया नाला, पुलिस वाहन से भेजा अस्पताल, दहलीज पर गुंजी किलकारी

भुवनेश्वर के अस्पताल में हुए हादसे के बाद भी अस्पताल प्रबंधन नहीं चेता है। नवीन भवन में ऊपरी हिस्से में बच्चा और महिला वार्ड हैं। इन वार्डों में जाने के लिए  एक रैंप और संकरी सिढ़ीयां है। सीढिय़ां होने की जानकारी अधिकांश लोगों को होती ही नहीं है।

नहीं पता कैसे करेंगे सिलेंडरों का उपयोग
जिला अस्पताल में लगे आग बुझाने वाले सिलेंडरों को अस्पताल प्रबंधन द्वारा निर्धारित समय से पूर्व रिफिल नहीं कराकर गंभीर लापरवाही बरती गई है। इसके अलावा आग लगने की स्थित में इन सिलेंडरों का उपयोग कैसे किया जाएगा, इसकी भी अधिकांश लोगों को जानकारी नहीं है। मामले की गंभीरता को देखते हुए अस्पताल प्रबंधन की ओर से इस दिशा में शीघ्र ही सार्थक कदम उठाए जाने के प्रयास किए जाने चाहिए।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned