मोदी पंजाब में खून का बेटा, यूपी में दत्तक पुत्र, वाह! : लालू

Political
मोदी पंजाब में खून का बेटा, यूपी में दत्तक पुत्र, वाह! : लालू

पूर्व केंद्रीय मंत्री लालू प्रसाद ने किसी का नाम लिए बिना ट्वीट कर लिखा, 'पंजाब में खून का बेटा और उत्तर प्रदेश में दत्तक पुत्र!

पटना। राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के अध्यक्ष लालू प्रसाद ने गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के यह कहने पर तंज कसा कि उत्तर प्रदेश ने उन्हें गोद लिया है। उन्होंने प्रधानमंत्री से 'अब न हंसाने' का निवेदन भी किया। पूर्व केंद्रीय मंत्री लालू प्रसाद ने किसी का नाम लिए बिना ट्वीट कर लिखा, 'पंजाब में खून का बेटा और उत्तर प्रदेश में दत्तक पुत्र! गजब है रे भाई...इतना मत हंसाओ!'

प्रधानमंत्री मोदी ने गुरुवार को उत्तर प्रदेश के हरदोई में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा, भगवान कृष्ण यूपी की धरती में पैदा हुए और गुजरात में कर्मभूमि बनाई। मैंने गुजरात में जन्म लिया और मुझे यूपी ने गोद लिया है। यह मेरी कर्मभूमि है, मेरा माई-बाप है। मैं ऐसा बेटा नहीं हूं, जो यूपी छोड़ दूं। गोद लिया बेटा भी माई-बाप की चिंता करेगा और यहां की स्थिति बदलने का कर्तव्य निभाएगा। मोदी ने इससे पहले पंजाब की एक रैली में खुद को पंजाब के खून का बेटा बताया था।

लालू इन दिनों ट्विटर पर काफी सक्रिय हैं। वह प्रधानमंत्री और भाजपा पर लगातार निशाना साध रहे हैं। राजद उत्तर प्रदेश चुनाव में समाजवादी पार्टी को समर्थन दे रही है।

मोदी 'मतवाला हाथी' की तरह तानाशाह : लालू
पटना। राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के अध्यक्ष लालू प्रसाद ने मंगलवार को एकबार फिर नोटबंदी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि उन्होंने 'मतवाला हाथी' की तरह तानाशाही कदम उठाया है। उन्होंने दावा किया कि नोटबंदी के खिलाफ आंदोलन में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी उनके साथ होंगे।

पटना में पत्रकारों से चर्चा करते हुए उन्होंने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री एक तानाशाह की तरह कदम उठा रहे हैं। उन्होंने कहा, मोदी जी, आपने मतवाला हाथी की तरह तानाशाही कदम उठाया है। लगता है, यहां का सारा पैसा चीन चला जाएगा।

राजद अध्यक्ष ने कहा है कि नोटबंदी पर राजद द्वारा आहूत आंदोलन में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी साथ होंगे। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार ने भी कैशलेस के मुद्दे पर केंद्र सरकार का विरोध किया है।

लालू ने कहा कि नीतीश कुमार ने उनसे कहा है कि 50 दिन बाद हम नोटबंदी का रिव्यू करेंगे और फिर केंद्र सरकार को इसका जवाब देना होगा। गौरतलब है कि नीतीश नोटबंदी के निर्णय का स्वागत करते हुए इसका समर्थन किया है।

लालू ने आगे कहा, नरेंद्र मोदी की बात पर अब कोई विश्वास नहीं करता। देश में उनकी विश्वसनीयता समाप्त हो गई है। उल्लेखनीय है कि राजद नोटबंदी के विरोध में राजद चरणबद्ध आंदोलन की घोषणा की है।


तो, क्या पीएम मोदी देंगे इस्तीफा : लालू प्रसाद यादव

नोटबंदी के मुद्दे पर मचे सियासी घमासान के बीच राष्ट्रीय जनता दल (राजद) अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को सीधी चुनौती देते हुए गुरुवार को कहा कि यदि पचास दिन में हालात सामान्य नहीं हुए तो क्या प्रधानमंत्री इस्तीफा देंगे। यादव ने माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर लिखा, प्रधानमंत्री के पचास दिन की मोहलत में 22 दिन बाकी हैं। पचास दिन बाद भी स्थिति सामान्य नहीं हुई तो क्या मोदी जी इस्तीफा देंगे या मुुंह छुपाते घूमेंगे। ना प्रधानमंत्री, ना उनके मंत्री, ना आर्थिक सलाहकारों या नीति आयोग को गांवों की समझ है। ग्रामीणों की व्यथा को समझना तो बहुत दूर की कौड़ी होगी।

राजद सुप्रीमों ने एक अन्य ट्वीट में कहा, मोदी जी, देश महानगरों से ही नहीं बना है। आपका यह अर्थव्यवस्था पर थोपा घातक प्रयोग गांंवों में अन्न,जीवन, मृत्यु, भविष्य का प्रश्न बन गया है। मोदी जी जानते हैं कि बमुश्किल बीस प्रतिशत भारतीय ही कैशलेस लेन-देन करने की स्थिति में हैं।

यादव ने कैशलैस अर्थव्यवस्था की संकल्पना को नोटबन्दी के दलदल से ध्यान हटाने का जुमला बताया और कहा, जो नब्बे लोग प्रत्यक्ष रूप से नोटबन्दी की भेंट चढ़ गए वे क्या गैर मुल्क़ी थे? उनके परिवार का भार कौन लेगा? प्रधानमंत्री के पास उनके लिए समय/शब्द भी नहीं। एक अन्य ट्वीट में कहा, भागते भूत की लंगोटी भली। नोटबन्दी में मिट्टी पलीत होते देख प्रधानमंत्री काला धन का आलाप त्याग, अब कैशलेस अर्थव्यवस्था के पल्लू में छुप रहे हैं।

लालू यादव घोटालों के सरदार हैं : सुशील मोदी
बिहार में शीतकालीन सत्र हंगामे के भेंट चढ़ गया है। बीते छह दिनों के सत्र में एक भी प्रश्न का जवाब नहीं हुआ। भाजपा विधानमंडल दल के नेता सुशील मोदी ने कहा कि शीतकालीन सत्र में पहली बार ऐसा हुआ कि एक भी प्रश्न का उत्तर नहीं हुआ। वहीं कई नेताओं ने आपत्तिजनक बयान जरूर दिए हैं।

मौका मिलेगा तो और एक्सपोज करुंगा

नेता एक दूसरे पर जमकर आरोपों की बौछार कर रहे हैं। राबड़ी देवी के इस मांग पर की सुशील मोदी माफी मांगे मोदी ने कहा कि लालू यादव घोटालों के सरदार हैं। मैं क्यू मांफी मांगू मौका मिलेगा तो और एक्सपोज करुंगा। मोदी ने कहा कि सीएम की लाचारगी दिखी जब उनकी मौजूदगी में राजद के सदस्य वेल में पहुंच नारेबाजी करते रहे।

पीएम ने लगाया चूना

राबड़ी देवी ने कहा कि सदन में गाली दे रहे हैं तो माफी भी मांगना पड़ेगा। राबड़ी देवी ने नोट बंदी को लेकर पीएम पर निशाना साधते हुए कहीं कि पनेरी भी पूछकर चूना लगाता है, लेकिन पीएम तो बिना पूछ ही सबको चूना लगा दिए। कांग्रेस और जदयू के नेता भी अपने अपने तरह से विपक्ष पर आरोप मढ़ने की कोशिश की।

अनुपूरक बजट पेश

हालांकि हंगामे के बीच सरकार के जरुरी काम काज जरुर निपटाए गए। जानकारी के अनुसार कई विधेयकों को पास कराया गया और अनुपूरक बजट भी पेश किया गया। इस पूरे सत्र के दौरान कभी भी गंभीरता से गतिरोध को दूर करने की कोशिश नहीं हुई। उच्च सदन की गरिमा को तार-तार करने की चर्चा सदस्यों में जरुरी होती रही।


Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned