मोदी ने नोटबंदी कर अर्थव्यवस्था के खिलाफ छेड़ी है जंग: राहुल

Political
मोदी ने नोटबंदी कर अर्थव्यवस्था के खिलाफ छेड़ी है जंग: राहुल

पहली बार मीटिंग की अगुआई राहुल गांधी ने की, नहीं पहुंची पार्टी प्रेसिडेंट सोनिया गांधी

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि नोटबंदी की घोषणा करके प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ रही अर्थव्यवस्था के खिलाफ ही युद्ध छेड़ दिया है। गांधी ने कांग्रेस संसदीय दल की बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहा - प्रधानमंत्री ने 8 नवंबर को किसी की सलाह के बिना लिए गए अपने इस फैसले से विश्व की सबसे तेजी से बढ़ रही अर्थव्यवस्था के खिलाफ ही युद्ध छेड़ दिया है। गांधी ने पहली बार पार्टी संसदीय दल की बैठक की अध्यक्षता की है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का स्वास्थ्य ठीक नहीं होने की वजह से वह बैठक में नहीं आई थीं। उन्हें इसी सप्ताह बुखार के कारण अस्पताल में भी भर्ती कराना पड़ा था हालांकि दो दिन बाद उन्हें छुट्टी दे दी गयी थी।

इससे पहले गांधी ने कांग्रेस की सर्वोच्च नीति निर्धारक संस्था कांग्रेस कार्य समित की अध्यक्षता भी की थी। गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री के नोटबंदी के फैसले से छोटे दुकानदारों तथा किसानों का भारी नुकसान हुआ है। उन्हें नकदी की सख्त जरूरत थी, लेकिन नकदी नहीं होने के कारण उन्हें लगातार दिक्कत हो रही है। नोटबंदी से सबसे ज्यादा नुकसान छोटे कारोबारियों, किसानों, मछुआरों, दिहाड़ी मजदूरों तथा गृहणियों को हुआ है।

कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा कि यह सिद्धांत है कि सारी नकदी कालाधन नहीं होता और सारा कालाधन नकदी के रूप में नहीं होता। यह तथ्यों पर आधारित आंकड़ा है कि सिर्फ छह प्रतिशत कालाधन ही नकदी में होता है। इसका इस्तेमाल सोने की खरीद, रियल एस्टेट तथा डॉलर की खरीद और विदेशों में जमा कराया जाता है। उन्होंने कहा कि छह प्रतिशत कालाधन नकदी में होने का मतलब है कि 94 फीसदी कालाधन रियल एस्टेट तथा सोना आदि की खरीद में लगाया जाता है। प्रधानमंत्री भी इस हकीकत से वाकिफ हैं।

उन्होंने आम चुनावों में कालाधन विदेशों से वापस लाने का जनता से वादा किया था और उसे लाने में पूरी तरह से असफल रहे हैं इसलिए कालेधन पर रोक लगाने के बहाने अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचाने का काम किया है। उन्होंने कहा कि 8 नवंबर को नोटबंदी का फैसला करके प्रधानमंत्री ने भ्रम का माहौल पैदा करके देश की नकदी अर्थव्यवस्था को चौपट किया है। कालाधन पर चोट करने की बजाए उन्होंने अर्थव्यवस्था की बुनियाद को ही खोद डाला है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के नोटबंदी के फैसले से अर्थव्यवस्था को धक्का पहुंचा है, लेकिन आश्चर्य की बात यह है कि नोटबंदी के उनके निर्णय की मुख्य आर्थिक सलाहकार को भी जानकारी नहीं दी गई।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned