राष्ट्रपति पद की दौड़ में 'मेट्रोमैन' और स्वामीनाथन 

Political
राष्ट्रपति पद की दौड़ में 'मेट्रोमैन' और स्वामीनाथन 

श्रीधरन के राष्ट्रपति बनने पर केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार को कई मायनों में मदद मिल सकती है। शिवसेना ने मोहन भागवत के बाद अब भारत में हरित क्रांति के जनक कहे जाने वाले डॉ एम एस स्वामीनाथन का नाम राष्ट्रपति उम्मीदवार के तौर पर आगे किया है।

मुंबई: राजनीतिक गलियारों में इस समय 17 जुलाई को होने वाले राष्ट्रपति चुनाव की सरगर्मियां तेज हैं। एक ओर जहां पीएम मोदी मेट्रोमैन ई श्रीधरन के नाम पर विचार कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर एनडीए की घटक दल शिवसेना भी अपने पसंद के उम्मीदवार का नाम सुझाने में पीछे नहीं है। वह कल तक लगातार अगले राष्ट्रपति के लिए मोहन भागवत के नाम की वकालत कर रही थी। 66 वर्षीय मोहन भागवत ने हाल में कहा कि उनकी राष्ट्रपति पद में दिलचस्पी नहीं है। उसके बाद शिवसेना ने अपने रुख में बदलाव करते हुए भारत में हरित क्रांति के जनक कहे जाने वाले डॉ एम एस स्वामीनाथन का नाम राष्ट्रपति उम्मीदवार के तौर पर आगे किया है। शिवसेना ने पहले कहा था कि देश को एक ऐसा व्यक्ति चाहिए जो हिंदू राष्ट्र के रूप में इसकी किस्मत पर मुहर लगा सके।

मैट्रोमैन ई श्रीधरन का नाम भी जुड़ा
Image result for e shridharan & swaminathan
अगला राष्ट्रपति कौन हो, इसके लिए सत्ता पक्ष और विपक्ष में कई नामों पर चर्चा हो रही है। खबरों के मुताबिक आ रही है कि इनमें एक नया नाम ‘मेट्रोमैन’ ई श्रीधरन का भी जुड़ गया है। उनके अलावा लोकसभा के पूर्व उपाध्यक्ष करिया मुंडा, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, झारखंड की राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू भी मज़बूत दावेदारों में शुमार बताए जाते हैं। माना जा रहा है कि उनके नाम पर सत्ता पक्ष और विपक्ष में सर्वसम्मति बनने की काफी संभावना है। सूत्र बताते हैं कि श्रीधरन के राष्ट्रपति बनने पर केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार को कई मायनों में मदद मिल सकती है। ख़ास तौर पर दुनिया में ‘ब्रांड इंडिया’ की छवि मज़बूत करने में जिसके लिए मोदी सरकार काफी कोशिश भी कर रही है। 

स्वामीनाथन आयोग की सभी शिफारिशें तत्काल लागू की जाएं- संजय राउत 
राउत ने कहा कि उनकी सारी सिफारिशें स्वीकार कर तत्काल लागू किया जाना चाहिये। राउत ने याद दिलाया कि लोकसभा चुनाव से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट की सारी सिफारिशें लागू करने पर सहमति जताई थी। सत्ता में आने के बाद उन्होंने किसानों की आमदनी दोगुनी करने की बात दोहराते हुए अपने वादे पूरे करने का आश्वासन दिया था। 
डॉ एम एस स्वामीनाथन
Image result for e shridharan & swaminathan

एआईएडीएमके ने किया भाजपा को समर्थन का ऐलान 
राष्ट्रपति चुनाव में बीजेपी की ताकत में शुक्रवार को उस वक्त इजाफा हो गया, जब एआईएडीएमके के अम्मा धड़े ने राष्ट्रपति चुनाव में उसे समर्थन देने का ऐलान कर दिया। एआईएडीएमके (अम्मा) के खेमे में 38 सांसद, 124 विधायक और असेंबली स्पीकर हैं। वहीं, पार्टी के दूसरे धड़े पन्नीरसेल्वम ग्रुप के पास 12 सांसद और 11 विधायक हैं। माना जा रहा है कि यह खेमा भी बीजेपी को समर्थन दे देगा। ऐसा होने पर राष्ट्रपति चुनाव में एनडीए का वोट शेयर 55 पर्सेंट हो जाएगा। उधर, केंद्रीय राज्य मंत्री पोन राधाकृष्णन ने कहा, 'हम सभी तमिलनाडु की पार्टियों से अपील कर रहे हैं कि वे राष्ट्रपति चुनाव में बीजेपी को समर्थन दें।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned