बिना एजेंसी पूर्व सरपंच ने बनवाया अतिरिक्त कक्ष, राशि भी हो गई जारी

Piyushkant Chaturvedi

Publish: Jan, 13 2017 01:08:00 (IST)

Raigarh, Chhattisgarh, India
बिना एजेंसी पूर्व सरपंच ने बनवाया अतिरिक्त कक्ष, राशि भी हो गई जारी

उर्दना प्राथमिक स्कूल में हुए अतिरिक्त कक्ष निर्माण में गड़बड़झाला होने की शिकायत की गई है।

रायगढ़. उर्दना प्राथमिक स्कूल में हुए अतिरिक्त कक्ष निर्माण में गड़बड़झाला होने की शिकायत की गई है। मामला स्थानीय सरपंच द्वारा बगैर निर्माण एजेंसी के

अतिरिक्त कक्ष का कार्य कराने व रायगढ़ जनपद से तीसरी किश्त जारी कराने का है। जिसकी खुलासा दिसंबर माह में हुई आडिट के दौरान हुआ है।

 ऐसे में, प्रधान पाठक ने मामले की जानकारी संबंधित अधिकारियों को है। वहीं सरपंच व गुरुजी की ओर से अपनी-अपनी दलील भी दी जा रही है।

मिली जानकारी के अनुसार मामला वर्ष 2009-10 का है। जब उर्दना प्राथमिक शाला के अतिरिक्त कक्ष के लिए 2 लाख रुपए की स्वीकृति हुई थी।

तत्कालीन एचएम ने महिला होने की बात कहकर अतिरिक्त कक्ष के निर्माण को लेकर रुचि नहीं दिखाई। उसके जाने के बाद जब प्रधान पाठक की जिम्मेदारी

 मो. असलम को मिली तो अतिरिक्त कक्ष बनाने की पहल हुई। प्रधान पाठक द्वारा शाला समिति की बैठक बुलाई गई। जिसकी भनक लगने पर पूर्व सरपंच रमेश भगत (जो वार्ड क्रमांक 46 के पार्षद पति हंै) भी पहुंचे और अतिरिक्त कक्ष खुद के द्वारा बनाने की बात कही।

सरपंच की इस बात पर विभागीय अधिकारियों ने भी हामी भर दी। ऐसे में, शाला प्रबंधन समिति के खाते से प्रधान पाठक ने सरपंच को पहली किश्त एक लाख दूसरी किश्त 70 हजार दी गई।

 इस बीच सरपंच द्वारा तीसरी व शेष किश्त 30 हजार को खुद ही जनपद में सेटिंग कर जारी करवा लिया गया।  इस बात का खुलासा तब हुआ जब दिसंबर 2016 में ऑडिट हुई और प्रधान पाठक ने

 विभाग से तीसरी व शेष किश्त की मांग की।  पर उक्त किश्त सरपंच को पहले ही मिल चुकी थी। इस मामले मेंं जनपद के कुछ लोगों की सेटिंग की बात भी कही जा रही है।

अधिकारी से शिकायत

जब इस पूरे मामले से प्रधान पाठक मो. असलम अवगत हुए तो उन्होंने इसकी शिकायत राजीव गांधी शिक्षा मिशन के अधिकारी के अलावा रायगढ़ जनपद के सीईओ से भी की है।

 जिसमें बगैर निर्माण एजेंसी सरपंच को राशि जारी करने की बात कही गई है। वहीं जांच कर कार्रवाई की मांग की गई है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned