डीपीओ पर लटकी है कार्रवाई की तलवार, 22 को होगी पेशी, हो सकता है डिमोशन!

Piyushkant Chaturvedi

Publish: Apr, 21 2017 01:09:00 (IST)

Raigarh, Chhattisgarh, India
डीपीओ पर लटकी है कार्रवाई की तलवार, 22 को होगी पेशी, हो सकता है डिमोशन!

महिला बाल विकास विभाग की विवादित अधिकारियों में शुमार होने वाली अनिता अग्रवाल के ऊपर विभागीय कार्रवाई की तलवार लटक रही है। महिला बाल विकास विभाग के अवर सचिव एसके तिवारी ने बताया कि कोरबा में पदस्थापना के दौरान उनके ऊपर भ्रष्टाचार के जो आरोप लगे थे।

रायगढ़. महिला बाल विकास विभाग की विवादित अधिकारियों में शुमार होने वाली अनिता अग्रवाल के ऊपर विभागीय कार्रवाई की तलवार लटक रही है। महिला बाल विकास विभाग के अवर सचिव एसके तिवारी ने बताया कि कोरबा में पदस्थापना के दौरान उनके ऊपर भ्रष्टाचार के जो आरोप लगे थे।

उसके प्रमाणित होने की स्थिति में रायगढ़ कलक्टर के माध्यम से कुछ जानकारी मांगी गई है साथ ही 22 अप्रैल को रायपुर में पेशी के लिए बुलाया गया है। विदित हो कि अवर सचिव के इस पत्र में अनिता अग्रवाल के डिमोशन की बात भी कही गई है, हलंाकि  इससे पहले डीपीओ को अपना पक्ष रखने को कहा गया है इसके बाद ही कोई स्थिति तय होगी। 

सचिव का पत्र रायगढ़ आने के बाद उक्त विभाग में चर्चाओं का बाजार गर्म है। जो जानकारी सामने आ रही है उसके अनुसार दो दिन पहले ही इस मामले में कलक्टर के साथ डीपीओ अनिता अग्रवाल को भी पत्र भेजा गया है। उक्त पत्र में डीपीओ के कोरबा पदस्थान के दौरान किए गए भ्रष्टाचार को सही पाया गया है। खास बात तो यह है कि भ्रष्टाचार की हुई जांच व उसमें प्रमाणित होने के बाद सचिव ने लगे हाथ डीपीओ के डिमोशन का उल्लेख भी कर दिया है। जिसके बाद विभाग के अंदर व बाहर चर्चाओं का बाजार गर्म है।

सूत्रों की माने तो सचिव के इस पत्र को लेकर सभी कर्मचारियों को भी हिदायत दी गई है कि यह खबर, विभाग के बाहर नहीं जाना चाहिए खासकर मीडिया के पास। इस मामले में पत्रिका ने विभाग के कुछ कर्मचारियों से चर्चा की। पर उन्होंने ऐसी किसी पत्र के आने की बात से साफ इंकार किया। जबकि सूत्रों की माने तो विभाग के हर एक कर्मचारी को इस बात की जानकारी है।  
सचिव के समक्ष 22 अप्रैल को होगी पेशी- कोरबा में हुए भ्रष्टाचार के आरोप प्रमाणित होने के बाद सचिव की ओर से जारी पत्र में डीपीओ अनिता अग्रवाल को 22 अप्रैल को रायपुर स्थित विभागीय आला अधिकारी के समक्ष पेश होने का जिक्र भी किया गया है। डीपीओ की रायपुर पेशी को लेकर कलक्टर को भी अवगत कराया गया है। वहीं कुछ अहम जानकारियां भी मांगी गई है।

रायगढ़ में भी विवादित- डीपीओ अनिता अग्रवाल पर रायगढ़ पदस्थापन के दौरान भी कई गड़बड़ी के आरोप लगे हैं। जिसमें डीजल की खपत में गोलमाल, कन्यादान योजना के तहत सामान खरीदारी का टेंडर, इसके साथ ही सखी, वन स्टॉप सेंटर की भर्ती प्रक्रिया में बरती गई अनियमितता पर सवाल उठाए गए हैं। ऐसे आधा दर्जन से अधिक मामले है। जिसमें कार्यशैली पर सवाल उठ चुके हैं।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned