इन पुलों से गुजरना है खतरनाक, डर के मारे 8 हजार टिकट कैंसल, कई को किया गया रद्द 

Abhishek Jain

Publish: Jul, 18 2017 12:46:00 (IST)

Raipur, Chhattisgarh, India
इन पुलों से गुजरना है खतरनाक, डर के मारे 8 हजार टिकट कैंसल, कई को किया गया रद्द 

रायगढ़ा घटना के मद्देनजर रेलवे बोर्ड ने आदेश जारी कर पुल-पुलियों की बारीकी से जांच करने को कहा है। रायपुर रेल मंडल से होकर चलने वाली आधा दर्जन ट्रेनों को अनिश्चितकाल के लिए रद्द कर दिया गया है। 

रायपुर. संबलपुर रेल डिवीजन की रायगढ़ा पुल उफनती नदी में बह जाने की घटना से रेलवे में हड़कंप मचा हुआ है। क्योंकि नदी पर बने पुल का एक बड़ा हिस्सा बह गया है। जबकि 14 मीटर का स्पॉन लगाया गया था। एेसे कई और छोटे-बड़े रेलवे पुल हैं, जिनपर हर दिन सैकड़ों गाडि़यां दौड़ रही हैं। सूत्रों के अनुसार बड़े पुलों पर पहुंचते ही ट्रेनों की स्पीड काफी कम कर दी जाती है। एेसे पुलों का रेलवे कई बार मेंटेनेंस करा चुका हैं। रायगढ़ा घटना के मद्देनजर रेलवे बोर्ड ने आदेश जारी कर पुल-पुलियों की बारीकी से जांच करने को कहा है। रायपुर रेल मंडल से होकर चलने वाली आधा दर्जन ट्रेनों को अनिश्चितकाल के लिए रद्द कर दिया गया है। वहीं कई ट्रेनों को परिवर्तित मार्ग से चलाया जा रहा है। यह मामला भी सामने आया है कि काफी पुराने हो चुके रेलवे के कई बड़े पुलों से हर दिन यात्री गाडि़यों के अलावा मालगाडि़यां दौड़ रही हैं। उन पुलों के सभी हिस्से की जांच और मेंटेनेंस करने की हिदायत रेलवे बोर्ड ने जारी की है। 

ये ट्रेनें अनिश्चितकाल के लिए रद्द
रायगढ़ा पुल बह जाने से रायपुर-विशाखापट्टन, दुर्ग-विशाखापटटनम पैसेंजर सहित दुर्ग-जगदलपुर एक्सप्रेस, कोरबा-विशाखापट्टनम एक्सप्रेस और बिलासपुर-तिरुपति एक्सप्रेस को आगामी आदेश तक रेलवे प्रशासन ने रद्द कर दिया है। जबकि रायपुर से होकर चलने वाली ये एेसी ट्रेनें हैं, जिनमें यात्रियों की काफी भीड़ रहती हैं। इसलिए यात्री हलाकान हैं। वहीं समता एक्सप्रेस और विशाखापट्टनम-भगत की कोठी एक्सप्रेस को मार्ग बदलकर चलाया जा रहा है। 

डिवीजन में 946 ब्रिज से दौड़ रही ट्रेनें
रायपुर रेल डिवीजन में सभी तरह की छोटी और बड़ी पुलियों का आंकड़ा 946 है, जिस पर हर दिन ट्रेनें दौड़ रही हैं। रेलवे इंजीनियरिंग विभाग के अफसरों का दावा है कि ब्रिज के मेंटेनेंस में कोई कोताही नहीं बरती जा रही है। इन पुल-पुलियों के संधारण की जिम्मेदारी रायपुर रेल डिवीजन के वरिष्ठ मंडल अभियंता संजय सिंह पर है। 

33 बड़े पुल पर कॉशन ऑर्डर
रायपुर रेल डिवीजन में 33 बड़े पुलों से होकर रेल परिचालन होता है। इनमें खारुन नदी, मांढर-सिलयारी, निपनिया-दगौरी शिवनाथ नदी पर लगभग 800 मीटर से अधिक लंबा लोहे से बना पुल है। बताया जाता है कि इन पुलों पर पटरियों के नीचे लोहे का जो स्ट्रक्चर लगाया जाता है, वह काफी मजबूत होता है। इंजीरियरों के मुताबिक बड़े पुलों पर 14 मीटर लंबा स्पॉन का पाट लगाया जाता है। जो आसानी से क्षतिग्रस्त नहीं होता। 

आठ हजार से अधिक टिकट कैंसिल
रायगढ़ा पुल बह जाने की घटना से दो दिनों से ट्रेन परिचालन चरमरा गया है। लगातार आधा दर्जन से अधिक ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है। इस वजह  से रेलवे काउंटरों से आठ हजार से अधिक टिकट कैंसिल कराए गए हैं। सोमवार को जहां रेलवे स्टेशन के पूछताछ केंद्र में काफी भीड़ रही हैं, वहीं यात्री टिकट कैंसिल कराने में भी जुटे नजर आए। 

-रेलवे ने सभी पुल-पुलियों का बारीकी से जांच करने का आदेश जारी किया है। मेंटेनेंस में कोताही नहीं बरती जा रही है। 
शिव प्रसाद पंवार, सीनियर पब्लिसिटी इंस्पेक्टर, रायपुर 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned