इस मजबूर पिता का सीएम को लिखा हुआ खत आंखों में आंसू ला देगा

Raipur, Chhattisgarh, India
इस मजबूर पिता का सीएम को लिखा हुआ खत आंखों में आंसू ला देगा

जांजगीर-चांपा जिले के गांव धनवा के किसान चरणदास प्रधान ने मुख्यमंत्री को मार्मिक खत लिखकर खुद और परिवार का जीवन बचाने की गुहार लगाई है। 

राजकुमार सोनी/रायपुर.  जांजगीर-चांपा जिले के गांव धनवा के किसान चरणदास प्रधान ने मुख्यमंत्री को मार्मिक खत लिखकर खुद और परिवार का जीवन बचाने की गुहार लगाई है। चरणदास ने खत में लिखा है कि फसल के खराब होने के बाद सहायता राशि पाने के लिए उसने कई जगह पर दस्तक दी, लेकिन उसे राहत नहीं मिली। आर्थिक तंगी के चलते पहले उसकी 19 साल की बेटी ने दम तोड़ दिया और अब वह खुद परिवार के साथ मौत की कगार पर खड़ा हुआ है। चरणदास ने लिखा है कि उसे बेटी के इलाज के लिए घर गिरवी रखना पड़ा था। यदि उसे समय रहते नहीं छुड़ाया तो भरी-बरसात में उसे बेघर होना पड़ेगा। बैंक से एक लाख 30 हजार रुपए का कर्ज भी ले रखा है। जिसे अदा न कर पाने की वजह से बैंक वाले धमकी भरा तकाजा भेज रहे हैं।     

...और बेटी चल बसी
: चरणदास ने मुख्यमंत्री को लिखा है, उसकी 19 साल की बेटी किरण प्रधान को किडनी की बीमारी हो गई, इलाज के लिए डाक्टरों ने ढाई से तीन लाख रुपए का खर्च बताया। बेटी को बचाने के लिए कलक्टर से फसल बीमा और सहायता राशि के लिए गुहार लगाई पर किसी ने गौर नहीं किया। चरणदास ने लिखा है, वह हर हाल में बेटी की जिंदगी बचाना चाहता था इसलिए उसने अपने मकान को 2 लाख 60 हजार रुपए में गिरवी में रखा, लेकिन बेटी को नहीं बचा सका।  चरणदास ने बतौर सबूत मुख्यमंत्री को बेटी की डेथ सार्टिफिकेट भी भेजी है।

सूख गई फसल, नहीं मिली मदद
चरणदास ने मुख्यमंत्री को अपनी व्यथा बताते हुए लिखा है, उसका गांव धनवा सिंचाई नहर के आखिरी टेल पर मौजूद है। उसने लगभग पौने छह एकड़ में धान की फसल लगाई थी, लेकिन धान की बाली निकलने के दौरान नहर से पानी बंद कर दिया तो पूरी फसल चौपट हो गई। फसल के बरबाद होने के बाद उसने कोटवार, पटवारी, तहसीलदार, कलक्टर को लिखित में जानकारी भेजी, लेकिन कहीं से कोई सहायता नहीं मिली।

कोई और रास्ता नहीं
किसान ने अपनी मार्मिक गुहार में लिखा है कि अभी खेती के लिए कुछ समय शेष है, लेकिन कर्जदार होने की वजह से उसे खाद, बीज, दवाई, जोताई, निदाई और गुड़ाई के लिए कौन सहायता देगा? यदि समय रहते आर्थिक मदद नहीं मिली तो पूरा परिवार सड़क पर आ जाएगा और उसके पास मौत को गले लगाने के अलावा और कोई दूसरा रास्ता नहीं बचेगा।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned