3 बिल्डरों के ऑफिस में IT की रेड, लाखों के नोट अफरा-तफरी करने का मिला सुराग

Raipur, Chhattisgarh, India
3 बिल्डरों के ऑफिस में IT की रेड, लाखों के नोट अफरा-तफरी करने का मिला सुराग

आयकर अंवेषण की टीम ने रायपुर के तीन रियल स्टेट कारोबारियों के 5 ठिकानों पर मंगलवार को दबिश दी। छानबीन में उनके आमानाका, शंकर नगर, जेल रोड और पंडरी स्थित दफ्तर में नोटों की अफरा-तफरी करने संबंधी दस्तावेज मिले है

रायपुर. आयकर अंवेषण की टीम ने रायपुर के तीन रियल स्टेट कारोबारियों के 5 ठिकानों पर मंगलवार को दबिश दी। छानबीन में उनके आमानाका, शंकर नगर, जेल रोड और पंडरी स्थित दफ्तर में नोटों की अफरा-तफरी करने संबंधी दस्तावेज मिले है। 50 सदस्यी टीम उनके सभी दफ्तरों में दस्तावेजों, कम्प्यूटर, बैंक खातों और निवेश की जांच कर रही है। छापेमारी विंग को पिछले काफी समय से 1000 और 500 रुपए के पुराने नोटों को खपाने की शिकायत मिली थी। पुख्ता सूचना मिलने के बाद विभागीय अधिकारियों ने दोपहर बाद वहां तलाशी शुरू की। विभागीय टीम उनके सभी ठिकानों पर डटी हुई है।

इसकी जांच
नोटबंदी लागू होने के बाद बड़े कारोबारियों पर निगाह रखी जा रही थी। उनके द्वारा 15 से 25 फीसदी कमीशन पर इसे खपाने की सूचना मिली थी। इस संबंध में बैंको से उनके खातों के संबंध में जानकारी मांगी गई थी। आयकर विभाग के अधिकारिक सूत्रों ने बताया कि कारोबारी 1000 और 500 के पुराने नोटों को खपाने के लिए अपने फ्लैट और बंगले बेचना दिखाया जा रहा था। इसके फर्जी दस्तावेज भी बैंकों में उनके कर्मचारियों द्वारा पेश किए जा रहे थे।

निशाने पर बिल्डर
त्योहारों के बाद रियल स्टेट का कारोबार ठंडा होने के बाद से बिल्डर खाली बैठे हुए थे। लेकिन, नोटबंदी लागू होते ही सभी बड़े कारोबारी ब्लैकमनी को खपाने के खेल में जुट गए। वित्त मंत्रालय और आयकर मुख्यालय से मिले निर्देश के बाद ज्वेलरी, रियल स्टेट, उद्योगपति और अन्य कारोबारियों पर नजर रखी जा रही थी। गौरतलब है कि गौरतलब है कि विगद तीन में रियल स्टेट से जुड़े हुए दो बिल्डरों के ठिकानों पर आयकर सर्वे विंग ने दबिश दी थी। शिकंजा कसता हुआ देखकर दोनो ही बिल्डरों ने 5 करोड़ रुपए सरेंडर किया था।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned