नई मुहिम: SMS बताएगा कि टीबी पेशेंट ने दवा ली या नहीं

Raipur, Chhattisgarh, India
नई मुहिम: SMS बताएगा कि टीबी पेशेंट ने दवा ली या नहीं

मरीज के दवा नहीं लेने की स्थिति डॉक्टर्स उसके घर पहुंचेंगे और दवा लेने के लिए प्रेरित करेंगे। '99 डॉट्स' अभियान के तहत स्वास्थ्य विभाग संभावित टीबी और एचआईवी मरीजों की स्क्रीनिंग करेगा

अंजली राय/रायपुर. टीबी और एचआईवी पीडि़त मरीजों के इलाज को लेकर स्वास्थ्य विभाग ने नई मुहिम शुरू की है। मरीजों के उपचार को लेकर विभाग '99 डॉट्स' अभियान शुरू किया है। इसके लिए विभाग ने सॉफ्टवेयर लॉन्च किया है। इससे एसएमएस के जरिए डॉक्टर्स और स्टाफ  को पता चल जाएगा कि मरीज ने दवा खाई है या नहीं। मरीज के दवा नहीं लेने की स्थिति डॉक्टर्स उसके घर पहुंचेंगे और दवा लेने के लिए प्रेरित करेंगे। '99 डॉट्स' अभियान के तहत स्वास्थ्य विभाग संभावित टीबी और एचआईवी मरीजों की स्क्रीनिंग करेगा। लगातार खांसी, बुखार, वजन कम होना और रात को पसीना आना जैसे लक्षणों वाले पेशेंट की छंटनी की जाएगी।

पेशेंट की ऑनलाइन होगी मॉनिटरिंग
स्वास्थ्य विभाग मरीज जब तक बिल्कुल स्वस्थ नहीं हो जाता तब तक उसकी विशेष निगरानी रखेगा। इसके लिए छह लेयर मॉनिटरिंग व्यवस्था की गई है। मॉनिटरिंग की पूरी व्यवस्था ऑनलाइन रहेगी। मरीज के दवा लेने की स्थिति में दवा सहायक, एसटीएस, एमओटीएस, डीपीएस, डीटीओ और एमओ के एसएमएस पहुंचेंगे। वे मरीज के घर पहुंचकर उसे दवा लेने और इलाज के लिए प्रेरित करेंगे।

टोल फ्री नंबर पर मिस कॉल देना होगा
टीबी और एचआईवी की पुष्टि होने के बाद स्वास्थ्य केंद्र पर उसके मोबाइल नंबर रजिस्टर्ड किए जाएंगे। स्वास्थ्य विभाग मरीज के मोबाइल नंबर का '99 डॉट्स' सॉफ्टवेयर पर रजिस्ट्रेशन करेगा। स्वास्थ्य केंद्र पर एक बार में 28 दिन की दवा दी जाएगी। हर टेबलेट पर टोल फ्री नंबर लिखे होंगे। 

डॉक्टर मरीज को हर दिन दवा लेने के बाद टोल फ्री नंबर पर मिस्ड कॉल करने के लिए समझाएगा। मरीज द्वारा टोल फ्री नंबर पर की गई मिस्ड कॉल '99 डॉट्स' वेबपोर्टल पर दिखाई देगी। अगर रोगी दवा लेने के बाद टोल फ्री पर मिस्ड कॉल नहीं करेगा तो सूचना वेबपोर्टल पर पहुंच जाएगी। इसके बाद डॉक्टर मरीज के घर पहुंचेंगे। उसे दवा लेने के लिए प्रेरित करेंगे। 28 दिन की खुराक पूरी होने के बाद मरीजों को दूसरी खुराक दी जाएगी। छह माह की खुराक पूरी होने के बाद मरीज का फिर चेकअप होगा। इलाज के लिए अगले स्टेज  की खुराक दी जाएगी।

टीबी पेशेंट के इलाज को लेकर स्वास्थ्य विभाग ने '99 डॉट्स' अभियान शुरू किया है। विभाग मरीज का इलाज होने तक निगरानी रखेगा।
डॉ. एसएन पांडेय, जिला क्षय नियंत्रण अधिकारी

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned