साढ़े तीन घंटे जननी एक्सपे्रस के लिए तड़पती रही प्रसूता

praveen praveen

Publish: Oct, 18 2016 11:07:00 (IST)

Bhopal, Madhya Pradesh, India
साढ़े तीन घंटे जननी एक्सपे्रस के लिए तड़पती रही प्रसूता

 औबेदुल्लागंज. क्षेत्रीय सांसद व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के क्षेत्र में आज भी महिलाओं को मूलभूत सुविधाएं नहीं मिल पा रही हैं। सरकार महिलाओं को ढेर सारी सुविधाएं देने का दावा करती हैं, लेकिन आज भी गांव में महिलाओं को संघर्ष करना पड़ रहा है।

 औबेदुल्लागंज. क्षेत्रीय सांसद व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के क्षेत्र में आज भी महिलाओं को मूलभूत सुविधाएं नहीं मिल पा रही हैं। सरकार महिलाओं को ढेर सारी सुविधाएं देने का दावा करती हैं, लेकिन आज भी गांव में महिलाओं को संघर्ष करना पड़ रहा है।
ब्लाक मुख्यालय औबेदुल्लागंज से आठ किलोमीटर दूरी पर स्थित जोंदरा गांव में जननी एक्सप्रेस नहीं पहुंच पाने से महिला की घर पर ही गांव की दाई को डिलेवरी करानी पड़ी।

 परिजनों ने जननी एक्सप्रेस के लिए फोन लगाया, जननी वाहन गांव से 1.5 किलोमीटर आकर वापस लौट गई। घर पर डिलेवरी के बाद महिला का पति महिला व बच्चे को मोटरसाइकिल पर लेकर अस्पताल पहुंचा। अब जच्चा व बच्चा दोनों स्वस्थ हैं। सलकनपुर मार्ग पर स्थित करमई गांव से डेढ़ किलोमीटर दूरी पर जोंदरा गांव स्थित है। ग्राम जोंदरा में रहने वाले आदिवासी मजदूर कन्हैया लाल पोरते की पत्नी सुशीला बाई के सुबह नौ बजे से पेट दर्द शुरू हो गया था। कन्हैया ने साढ़े नौ बजे आशा कार्यकर्ता को फोन लगाया। इसके बाद साढ़े दस बजे जननी एक्सप्रेस करमई गांव पहुंची, लेकिन जननी के ड्राइवर ने डेढ़ किलोमीटर कच्चे रास्ते में वाहन ले जाने से मना कर दिया। कन्हैया के परिजन ड्राइवर से जोंदरा आने की मिन्नतें करते रहे, तब ड्राइवर ने परिजनों से कहा कि उनका टेंडर कच्ची सड़क पर जाने का नहीं है और ड्राइवर जननी एक्सप्रेस लेकर वापस अस्पताल आ गया।


दाई ने कराया प्रसव
जननी वाहन वापस जाने के बाद परिजन करमई गांव से एक महिला (दाई) को जोंदरा ले गए और दाई ने घर पर साढ़े 12 बजे महिला की डिलेवरी कराई। डिलेवरी के बाद जन्म लिए बालक की हालत नाजुक होने लगी। इसके बाद पति कन्हैया पोरते पत्नी सुशीला को मोटरसाइकिल पर लेकर अस्पताल पहुंचे। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned