अपहरण व दुष्कर्म के आरोपी को दस साल की कैद

vikram ahirwar

Publish: Jul, 17 2017 11:00:00 (IST)

ratlam
अपहरण व दुष्कर्म के आरोपी को दस साल की कैद

- आरोपी ईश्वर ने यहां पर उसके साथ इच्छा विरूद्ध खोटा काम किया।


रतलाम।
जिला सत्र न्यायाधीश कोर्ट ने नाबालिगग के अपहरण व दुष्कर्म के मामले में आरोपी युवक पास्को एक्ट में दस वर्ष के सश्रम करावास की सजा सोमवार को सुनाई है।
सहायक जिला अभियोजन अधिकारी सुशील कुमार जैन ने बताया कि बज्जापुरा गांव की 17 वर्षीय किशोरी ने शिवगढ़ थाने पर परिजन के साथ पहुंचकर रिपोर्ट दर्ज कराई थी कि वह शिवगढ़ हाट बाजार में आई थी। वहां पर उसे डूंगरपूंजा गांव का ईश्वर निनामा बस स्टेंड पर मिला। उसने उससे कहा कि वह उसे पत्नी बनाकर रखेगा, उसके साथ चले, वरना जान से खत्म कर देगा। वह बस में बिठाकर उसे बाजना ले आया। वहां से बाइक पर बिठाकर उज्जैन के पास एक गांव ले गया। जहां पर डेरे में पूर्व से डूंगरपूंजा गांव के बाबू और रमेश रह रहे थे। ईश्वर ने यहां पर उसके साथ इच्छा विरूद्ध खोटा काम किया। इंकार करने में पर जान से मारने की धमकी दी। परिजन किशोरी को तलाश रहे थे। तलाशते हुए वहां पहुंचे। इस दौरान युवक लकड़ी लेने गया था। परिवार किशोरी को उसकी चंगुल से छुड़ाकर घर लेकर आए और थाने में प्रकरण दर्ज कराया। पुलिस ने आरोपी युवक के खिलाफ पास्को, अपहरण व जबरन धमकाने का प्रकरण दर्ज कर कार्रवाई की थी।

यह हुई सजा
कोर्ट ने पास्कों एक्ट में 5 (एल)/6 में दस वर्ष सश्रम कारावास, एक हजार जुर्माना, अपहरण धारा 363 व बंधक बनाने में धारा 366 के तहत तीन-तीन वर्ष सश्रम करावास व सौ-सौ रुपए जर्माने की सजा सुनाई है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned