धार्मिक नगर के रूप में विकसित होंगे दो स्टेशन

Ratlam, Madhya Pradesh, India
धार्मिक नगर के रूप में विकसित होंगे दो स्टेशन

 वर्ष 2017-18 में रेलवे का अलग से बजट नहीं आएगा।  रेलवे बोर्ड ने अपनी तैयारियां शुरू करते हुए सुझाव मांगे है। मंडल से विभिन्न सुझाव के साथ मंदसौर को धार्मिक व रतलाम को पर्यटन की दृष्टि से महत्वपूर्ण स्टेशन माना है।



रतलाम।  वर्ष 2017-18 में रेलवे का अलग से बजट नहीं आएगा। जनवरी अंत या फरवरी की शुरुआत में आने वाले मुख्य बजट में ही रेलवे के बजट को शामिल किया जाएगा। रेलवे बोर्ड ने अपनी तैयारियां शुरू करते हुए सुझाव मांगे है। मंडल से विभिन्न सुझाव के साथ मंदसौर को धार्मिक व रतलाम को पर्यटन की दृष्टि से महत्वपूर्ण स्टेशन माना है। प्रस्ताव मंजूर होते है तो इन शहरों के स्टेशन का नक्शा बदल दिया जाएगा। इन दो शहरों के स्टेशन के कायाकल्प के लिए 50 करोड़ रुपए की मांग की गई है। 

 ये भेजे हैं प्रस्ताव

रतलाम के आसपास के क्षेत्र में पर्यटन की असीम संभावनाएं होने से इस शहर को रेलवे ने पर्यटन की दृष्टि से महत्वपूर्ण माना है। यहां मुंबई मुख्यालय से आने वाले अधिकारी व उनके परिजन सैलाना स्थित कैक्टस गार्डन जाते हैं। जेवीएल मंदिर मांगल्यधाम भी जाते है। अब रतलाम को रेलवे की नजर में पर्यटन की दृष्टि से महत्वपूर्ण शहर के रूप में शामिल करने का प्रस्ताव है।

 धार्मिक दृष्टि से महत्वपूर्ण स्टेशन 

मंदसौर में पशुपतिनाथ मंदिर की वजह से लंबे समय से सांसद सुधीर गुप्ता प्रयास में थे कि रेलवे स्टेशन को धार्मिक नगरी के रूप में पहचान मिले। इसके बाद चारों कोनों से रेलवे की ट्रेनों से जुड़ी सुविधा तो मिलेगी साथ ही आईआरसीटीसी पर्यटन ट्रेनें भी चलाएगा। सांसद गुप्ता ने बोर्ड में प्रस्ताव भिजवाया हैं कि बजट में मंदसौर को धार्मिक दृष्टि से महत्वपूर्ण स्टेशन घोषित किया जाए।

ये मांग भी की है

- फतेहाबाद रतलाम ट्र्रैक के इलेक्ट्रिकल आमान परिवर्तन के लिए 100 करोड़ रुपए की मांग।
- दाहोद में एफओबी मुंबई एंड की तरफ।
- रतलाम में लिफ्ट व नीमच में सीढ़ी का निर्माण।
- लिमखेड़ा में एफओबी का निर्माण।

 मांग पत्र भेजते हैं

 बजट के पूर्व सभी मंडल जरूरत अनुसार मांग पत्र भेजते हैं। बजट आने पर ही पता चलेगा कि कितनी मांग को मंजूर किया गया है।
-जेके जयंत, जनसपंर्क अधिकारी, रतलाम रेल मंडल
 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned