आज का दिन इन कामों के लिए रहेगा अशुभ, आप भूल कर भी न करें

Sunil Sharma

Publish: Apr, 12 2017 09:12:00 (IST)

Religion
आज का दिन इन कामों के लिए रहेगा अशुभ, आप भूल कर भी न करें

प्रतिपदा नन्दा संज्ञक तिथि दोपहर बाद 1.15 तक, तदुपरान्त द्वितीया भद्रा संज्ञक तिथि प्रारम्भ हो जाएगी

प्रतिपदा नन्दा संज्ञक तिथि दोपहर बाद 1.15 तक, तदुपरान्त द्वितीया भद्रा संज्ञक तिथि प्रारम्भ हो जाएगी। कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा में विवाहादि सभी मांगलिक कार्य, यात्रा, प्रतिष्ठा, वास्तुकर्म तथा मुण्डनादि कार्य और द्वितीया तिथि में उपरोक्त वर्णित सभी कार्यों सहित भूषण, यज्ञोपवीत व प्रतिष्ठादिक कार्य शुभ कहे गए हैं।

यह भी पढें: अगर आपके दांतों के बीच भी हैं गैप तो आपका फ्यूचर होगा ऐसा

यह भी पढें: इन 6 में से कोई भी एक चीज घर पर लाने से दूर होंगी समस्याएं



नक्षत्र: स्वाति 'चर व तिर्यंकमुख' संज्ञक नक्षत्र सम्पूर्ण दिवारात्रि है। स्वाति नक्षत्र में देवालय, मांगलिक कार्य, वस्त्रालंकार, वास्तु, बीजादिरोपण व शस्त्र सम्बंधी कार्य शुभ व सिद्ध होते हैं।

योग: हर्षण नामक नैसर्गिक शुभ योग प्रात: 9.00 बजे तक, तदुपरान्त वज्र नामक नैसर्गिक अशुभ योग है। वज्र नामक योग की प्रथम तीन घटी शुभ कार्यों में त्याज्य हैं। करण: कौलव नामकरण दोपहर बाद 1.15 तक, तदन्तर तैतिलादि करण हैं।

शुभ विक्रम संवत् : 2074
संवत्सर का नाम : साधारण
शाके संवत् : 1939
हिजरी सन् : 1438
अयन : उत्तरायण
ऋतु : बसन्त
मास : वैशाख। पक्ष - कृष्ण।

शुभ मुहूर्त : उपर्युक्त शुभाशुभ समय, तिथि, वार, नक्षत्र व योगानुसार आज स्वाति नक्षत्र में नामकरण, अन्नप्राशन व हलप्रवहण आदि के यथाआवश्यक शुभ मुहूर्त हैं।

यह भी पढें: बड़े से बड़े दुर्भाग्य को भी सौभाग्य में बदल देते हैं ये 7 अचूक टोटके

यह भी पढें: घर में बेकार पड़ी इन चीजों से आप बन सकते हैं करोड़पति, जानें कैसे...

श्रेष्ठ चौघडि़ए:
आज सूर्योदय से प्रात: 9.19 तक लाभ व अमृत, पूर्वाह्न 10.53 से दोपहर 12.28 तक शुभ तथा अपराह्न 3.37 से सूर्यास्त तक चर व लाभ के श्रेष्ठ चौघडि़ए हैं, जो आवश्यक शुभकार्यारम्भ के लिए अत्युत्तम हैं। बुधवार को अभिजित नामक मुहूर्त शुभ कार्यों में त्याज्य माना गया है।

व्रतोत्सव:
मेला महावीर जी समाप्त।
दिशाशूल: बुधवार को उत्तर दिशा की यात्रा में दिशाशूल रहता है। चन्द्र स्थिति के अनुसार आज पश्चिम दिशा की यात्रा लाभदायक व शुभप्रद है।
चन्द्रमा: चन्द्रमा सम्पूर्ण दिवारात्रि तुला राशि में है।
ग्रह राशि-नक्षत्र परिवर्तन: अन्तरात्रि 4.12 पर मंगल वृष राशि में प्रवेश करेगा।
राहुकाल: दोपहर 12.00 बजे से दोपहर बाद 1.30 तक राहुकाल वेला में शुभकार्यारंभ यथासम्भव वर्जित रखना हितकर है।

आज जन्म लेने वाले बच्चे
आज जन्म लेने वाले बच्चों के नाम (रू,रे,रो,ता,ति) आदि अक्षरों पर रखे जा सकते हैं। इनकी जन्म राशि तुला तथा जन्म रजत पाद से है, जो अतीव शुभ है। सामान्यत: ये जातक व्यापार-व्यवसाय में निपुण, होशियार, समझदार, शीतल स्वभाव, सबके मित्र, अपनी बौद्धिक क्षमता से मनचाहा लाभ व यशोपार्जन करने वाले होते हैं। पर इनके स्वास्थ्य व दीर्घायु के लिए शांति करा देना अधिक अच्छा है। इनका भाग्योदय लगभग 30 से 36 वर्ष की आयु के बीच होता है। तुला राशि वाले जातकों को आज कार्य क्षेत्र में अच्छा लाभ होगा। नये मित्र बनेंगे। अपने दायित्व का ठीक से निर्वाह करे।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned