कांग्रेस कार्यकर्ताओं को डंडा उठाने की नसीहत

Nitin Sadafal

Publish: Jun, 20 2017 01:21:00 (IST)

sagar mp
कांग्रेस कार्यकर्ताओं को डंडा उठाने की नसीहत

सागर.मंदसौर में हुई किसानों की मौत के मामले से आक्रोशित कांगे्रस अब भाजपा से निपटने के लिए डंडा उठाने की नसीहत दे रही है। 

मंदसौर में मृत हुए किसानों के आरोपियों पर हत्या का मुकदमा दर्ज करने समेत अन्य मांगों को लेकर सोमवार को पीली कोठी के बाजू वाले मैदान में आयोजित धरना-प्रदर्शन में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव ने कहा कि 2018 के चुनाव में झंडे के साथ डंडा लेकर आना है। इन 13 वर्षों में भाजपा ने जो किया है, उसके लिए मां नर्मदा उन्हें माफ नहीं करेगी और 2018 में जनता इसका पूरा हिसाब लेगी। अगले चुनाव में भाजपा सरकार को उखाड़ 
फेंकना है।
विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अजयसिंह ने कहा मुख्यमंत्री ने अपने दस साल के कार्यकाल में 8 हजार से ज्यादा घोषणाएं यानि की रोजाना दो घोषणाएं। जबकि पिछले तीन साल के कार्यकाल में 1536 घोषणाएं। इन घोषणाओं का हाल जनता जानती है। सिंह ने प्रदेश के गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह और पंचायत मंत्री गोपाल भार्गव पर भी निशाना साधा। कहा, गृहमंत्री को तीन दिन बाद पता चल पाया कि मंदसौर में किसानों की मौत पुलिस की गोली से हुई। एक मंत्री का ध्यान अपनी होटल और दूसरे का अस्पताल पर है। किसानों की मौत पर सवाल उठाते हुए कहा मृतक किसानों की पीएम रिपोर्ट में एक भी गोली नहीं मिली। धरना के बाद रैली के रूप में कार्यकर्ता घेराव के लिए रवाना हुए जिन्हें पुलिस ने बैरीकेट्स के पास रोक लिया। हल्की नोंकझोंक के बाद ज्ञापन कलेक्टर विकाससिंह नरवाल को सौंपा।
प्रदर्शन में संभाग के पांचों जिलों के जिलाध्यक्ष, पूर्व मंत्री प्रकाश जैन, सुरेंद्र चौधरी, रवि चौरसिया, प्रेमनारायण मिश्रा, नारायण प्रजापति, गुलाब सिंह राजपूत, त्रिलोकी कटारे, अमित दुबे रामजी, मुकुल पुरोहित, राजकुमार पचौरी, सुरेन्द्र सुहाने, संदीप सबलोक, गोवर्धन रैकवार, रामकुमार पचौरी, लक्ष्मीनारायण सोनकिया, सिंटू कटारे, फिरदौश अली, सुरेंद्र चौबे, आनंद तोमर, अवधेश तोमर, दीनदयाल तिवारी, डॉं. महेश तिवारी, राजेश्वर सेन, राहुल खरे, शारदा खटीक, अनिल श्रीवास्तव, अधिवक्ता संघ के पूर्व अध्यक्ष लखन राठौर, पूर्व सचिव शिवदयाल बड़ोनिया, अकील सिद्दिकी समेत अनेक कार्यकर्ता मौजूद थे।
पत्रकारवार्ता में बोले कांग्रेस नेता
'खुदकुशी करने वाले कृषकों को भी वही मुआवजा मिले जो पुलिस की गोली से मारे गए किसानों को मिला
प्रदेश में उपजा किसान आंदोलन न तो कांग्रेस ने शुरू किया है और न ही किसानों को भड़काया है। हम तो सिर्फ अन्याय की लड़ाई में किसानों के साथ हैं। उनको अपना वाजिब हक मिलना चाहिए और जब तक यह हक नहीं मिल जाता हमारी लड़ाई जारी रहेगी। यह बात प्रदेशाध्यक्ष अरुण यादव व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने पत्रकारवार्ता में कही। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी एक है, सभी मिलजुलकर कार्य कर रहें हैं। एकजुटता तो भाजपा में नहीं है। उन्होंने बिना नाम लिए मंत्रियों पर आरोप लगाया कि भाजपा के मंत्री लाशों पर राजनीति कर रहे हैं। जो राहत राशि पुलिस की गोली लगने से मारे गए किसानों को देने की घोषणा की गई है, वही राशि खुदकुशी करने वाले किसानों को भी मिले। 
जेल में पूड़ी-सब्जी कर रही थी इंतजार 
सागर. सेंट्रल जेल में सोमवार को जेल प्रबंधन द्वारा एक हजार से अधिक प्रदर्शनकारियों के गिरफ्तार होने की आशंका के चलते जेल में इनके खाने-पीने की व्यवस्था के साथ उनके बैरक भी सुरक्षित रखे गए थे। खाने में पूड़ी-सब्जी और सलाद की व्यवस्था की गई थी, लेकिन गिरफ्तारी की नौबत नहीं आई। जेल अधीक्षक राकेश कुमार ने कहा एक हजार प्रदर्शनकारियों के लिए खाने की व्यवस्था की थी। उन्होंने बताया कि देर शाम को पुलिस विभाग से सूचना मिली थी कि प्रदर्शन समाप्त हो गया है और किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है। ऐसे में खाने के पैकेट कैदियों को वितरित किए गए।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned