KORBA के बालक की SURGUJA में दी गई थी नरबलि, पिता-पुत्र गिरफ्तार

Pranayraj rana

Publish: May, 19 2016 05:37:00 (IST)

Ambikapur, Chhattisgarh, India
 KORBA के बालक की SURGUJA में दी गई थी नरबलि, पिता-पुत्र गिरफ्तार

5 दिन पूर्व लखनपुर के ग्राम तुनगा स्थित रेण नदी के किनारे मिला था 12 वर्षीय बालक का गला रेता शव, देवता को प्रसन्न करने एक ही परिवार के 4 लोगों ने की थी नृशंस हत्या, 2 फरार

अंबिकापुर. कोरबा जिले के एक 12 वर्षीय बालक का गला रेता शव 13 मई की सुबह सरगुजा जिले के लखनपुर विकासखंड स्थित ग्राम तुनगा से लगे रेण नदी के किनारे मिला था। उसकी हथेली भी कटी हुई थी। 2 दिन बाद बालक की पहचान उसके पिता ने शव देखकर की थी। पुलिस इस अंधे कत्ल की गुत्थी सुलझाने में लगी थी।

संदेह के आधार पर पुलिस ने ग्राम तुनगा निवासी एक ग्रामीण व उसके बेटे को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो उन्होंने हत्या की बात स्वीकार ली। ग्रामीण ने बताया कि उन्होंने देवता को प्रसन्न करने बालक की बलि दी थी। पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है वहीं 2 अन्य आरोपी मां-बेटे फरार हैं।
child body

गौरतलब है कि लखनपुर विकासखंड के ग्राम तुनगा स्थित रेण नदी के किनारे झाडिय़ों में 13 मई को अज्ञात बालक का गला रेता हुआ शव मिला था। मामले में नरबलि की आशंका जताई जा रही थी, लेकिन पुलिस इससे इनकार कर रही थी। शव की शिनाख्त दो दिन बाद उसके पिता ने शव देखकर उस समय की जब वह उदयपुर से लगे अपने रिश्तेदार के घर आया था।

शव की शिनाख्त कोरबा जिले के ग्राम कुदरी चिगार, थाना लमरु निवासी सूरज पिता चमरु 12 वर्ष के रूप में की गई थी। पिता ने भी नरबलि की आशंका जताई थी। पुलिस मामले में अज्ञात आरोपियों के खिलाफ धारा 302 के तहत अपराध दर्ज कर जांच कर रही थी। इसी दौरान संदेह के आधार पर पुलिस ने ग्राम तुनगा निवासी शिवचरण पैकरा 52 वर्ष व उसके बड़े बेटे भरत पैकरा 32 वर्ष को हिरासत में लिया।

पूछताछ में शिवचरण व भरत पैकरा ने बालक की हत्या नरबलि के रूप में करने की बात स्वीकार कर ली। पुलिस को शिवचरण पैंकरा ने बताया कि 11 मई की रात उसका छोटा बेटा विफन पैंकरा 28 वर्ष कोरबा से बालक को बहला-फुसलाकर घर लाया था। सुबह वह उसे अपने साथ जंगल ले गया था और रात को फिर घर ले आया था।

इस दौरान उन्होंने घर में पूजा-पाठ की और बालक को लिटाकर धारदार हथियार से विफन ने ही उसका गला रेत दिया। इसके बाद उसकी हथेली भी काट दी। उसने बताया कि इस दौरान वह खुद बालक का दोनों पैर दबाए हुए था। उसकी पत्नी रम्मी बाई व बड़ा बेटा भरत वहीं खड़े थे। इसके बाद पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस ने हत्या के अपराध के साथ धारा 364 भी जोड़ा व दोनों को जेल भेज दिया। पुलिस ने बताया कि हत्या का मुख्य आरोपी विफन पैंकरा व उसकी मां रम्मी बाई फरार हैं। पुलिस उनकी खोजबीन में जुटी है। अंधे कत्ल की गुत्थी लखनपुर पुलिस ने आईजी के मार्गदर्शन, एसपी आरएस नायक के निर्देशन व टीआई आरडी सिंह के नेतृत्व में सुलझाई।

देवता को प्रसन्न करने दी बलि
शिवचरण ने पुलिस को बताया कि उन्होंने देवता को प्रसन्न करने बालक की नरबलि दी थी। हत्या से पूर्व उन्होंने घर में देवता का अनुष्ठान भी किया था।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned