27 फिट गहरे बोरवेल में गिरे मासूम को जिंदा निकाला, 12 घंटे चला रेस्क्यू ऑपरेशन

Satna, Madhya Pradesh, India
27 फिट गहरे बोरवेल में गिरे मासूम को जिंदा निकाला, 12 घंटे चला रेस्क्यू ऑपरेशन

रंग लाई पुलिस की मेहनत, काम आई लोगों की दुआएं, काफी मशक्कत के बाद तड़के सुरक्षित निकला गया मासूम, दिल को दहला देने वाली यह घटना माड़ा थाना क्षेत्र के बहेरी खुर्द की है।


सिंगरौली।
मां के पास खेलते-खेलते 27 फिट गहरे बोरवेल में गिरे मासूम को 12 घंटे के रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद सुरक्षित निकाल लिया गया है। बताया गया कि माड़ा थाना क्षेत्र के बहेरी खुर्द गांव में गुरुवार शाम मासूम कब गहरे बोरवेल के पास पहुंच गया, मां को पता भी नहीं चल सका। जिगर के टुकड़े की आहट नहीं मिली तो मां ने उसे इधर-उधर देखा तो वह बोरवेल के पास दिखा।

अनहोनी की आशंका को देखते हुए मां तेजी से दौड़ी और उसे पकडऩे का प्रयास किया, लेकिन पछतावा ही हाथ लगा। उसकी आंखों के सामने ही मासूम बोरवेल में जा गिरा। बचाव के लिए शाम को अभियान शुरु कर दिया गया। खुदाई के लिए 5 मशीनें लगाई गईं। 12 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद पुलिस को शुक्रवार तड़के करीब 5.30 बजे कामयाबी मिल सकी।

12-hour rescue operation-1

मां बैठी थी खेत के पास
सूत्रों के अनुसार एक साल के मासूम चंद्रशेखर बैस पिता बबुंदरा बैस को लेकर उसकी मां खेत के पास बैठी थी। इसी दौरान बच्चा टहलते हुए दूर तक निकल गया। पास में ही अरहर के खेत के करीब खुला बोरवेल था, जिसे झांकने की कोशिश करते समय वह उसी में समा गया। बचाव के लिए दौड़ी मां चंद कदम दूर ही रह गई।

शुक्रवार की तड़के मिली सफलता
उसकी चीख पुकार सुनकर गांव के लोग एकत्रित हुए और बचाव राहत कार्य शुरु किया गया। बच्चे के रोने की आवाज सुनकर लोग सांत्वना देने की आवाज लगाते रहे। घटना की सूचना पाकर माड़ा का पुलिस दल मौके पर पहुंचा और जेसीबी व अन्य अर्थमूवर्स मशीनों को मंगाकर खुदाई अभियान शुरु किया। रातभर चले रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद सफलता शुक्रवार की तड़के मिली।

12-hour rescue operation

पुलिस के लिए लगे जयकारे
बच्चे के सुरक्षित बाहर निकलते ही गांव में खुशी छा गई। रात पर कड़ी मशक्कत करने वाली पुलिस को लोगों ने धन्यवाद दिया और जयकारे के नारे लगाए। एसपी रुडोल्फ अल्वारेस, एसडीओपी राजेश सिह, माड़ा थाना प्रभारी एसबी सिंह मराबी भारी पुलिस बल के साथ रात पर बच्चे को सुरक्षित निकालने के प्रयास में जुटे रहे। सुबह जब बच्चा सुरक्षित निकाला तो वे भी राहत की सांस ली।

डॉक्टरों की निगरानी में रखा गया बच्चा
पल-पल का इंतजार कर रही मां ने जिगर के टुकड़े को सुरक्षित पाकर उसे सीने से लगा लिया। पूरा माहौल गमगीन हो गया। वहां मौजूद लोगों के ऑखों से खुशी के आंसू झलक पड़े। फिलहाल बच्चे को डॉ. राहुल सिंह की निगरानी में रखा गया है। उसे दवाएं दी जा रही है। कोई अनहोनी न हो इसलिए वरिष्ठ चिकित्सकों की टीम बच्चे के स्वास्थ्य की जांच कर रही है।

अरहर के खेत में था बोरवेल

बताया जा रहा कि जिस बोरवेल में बच्चा गिरा था वह बोरवेल अरहर के खेत के बीचोंबीच था। जो कि महीनों से खुला पड़ा हुआ था। उसे बंद करने में लापरवाही की गई। बोरवेल के आसपास अरहर की फसल लगाई गई है। इससे पुलिस को बचाव कार्य में भी बेहद परेशानी हो रही थी। करीब 12 घंटे की अथक मेहनत के बाद बच्चे को बोरवेल से निकाला गया।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned