बारिश का जलजला: MP के इस जिले में भारी बारिश से हाहाकार, पुल डूबे बस्तियां पानी-पानी

suresh mishra

Publish: Jul, 18 2017 03:39:00 (IST)

Satna, Madhya Pradesh, India
बारिश का जलजला: MP के इस जिले में भारी बारिश से हाहाकार, पुल डूबे बस्तियां पानी-पानी

विंध्य में जारी भारी वर्षा ने कई शहरों में हाहाकार मचा दिया है। सबसे खराब हालत रीवा शहर और जिले की है। जहां के कई पुल डूब गए हैं तो बस्तियों में पानी भरने से अफरा-तफरी का माहौल निर्मित हो गया है।


रीवा। विंध्य में जारी भारी वर्षा ने कई शहरों में हाहाकार मचा दिया है। सबसे खराब हालत रीवा शहर और जिले की है। जहां के कई पुल डूब गए हैं तो बस्तियों में पानी भरने से अफरा-तफरी का माहौल निर्मित हो गया है। लोगों को सुरक्षित स्थानों में पहुंचाने के लिए आधा दर्जन मोहल्लों को खाली कराया जा रहा है। अगर ऐसी ही बारिश होती रही तो रीवा में बाढ़ के हालात बन सकते हैं। उधर सतना के भी कई इलाकों में पानी भर गया।

दरअसल रीवा शहर दो नदियों बीहर और बिछिया से घिरा हुआ है। दोनों नदियां भारी बारिश के चलते उफान में हैं। बिछिया नदी पर जहां रीवा-शहडोल रोड पर बना पुल डूब गया है। वहीं बीहर का निपनिया पुल लबालब है। इसके अलावा अमहिया नाले का भी पुल जलमग्न है। रीवा में दो दिनों से लगातार बारिश चल रही है जिससे हालात बिगडऩे लगे हैं। नदियों के सहायक नालों के चोक हो जाने पानी बस्तियों में भरने लगा है।



सहमे लोग
साल 2016 में रीवा ने दो बार बाढ़ का कहर झेला था। हालत यह हुई की मदद के लिए सेना बुलानी पड़ी थी। बुधवार की मूसलाधार बारिश ने उसकी याद ताजा कर दी जिससे लोग सहम गए। जिन इलाकों में पिछली बार बाढ़ ने कहर ढाया था वहां दिनभर अफरा-तफरी का माहौल रहा। हालांकि अधिकारी जायजा लेने के लिए लगातार ऐसे क्षेत्रों के भ्रमण पर रहे।

कई मोहल्ले खाली कराने की तैयारी
रीवा शहर के निचले इलाकों में बसे लोगों को सुरक्षित स्थानों में पहुंचाने की तैयारी शुरु हो गई है। सबसे अधिक खतरे में ढेकहा, निपनिया, पुष्पराजनगर, कमसरियत, नयातालाब, तरहटी, बांसघाट बोदाबाग के कुछ हिस्से हैं। जहां से लोगों को हटाने और सुरक्षित स्थानों में भेजने के इंतजाम किए जा रहे हैं। ताकि रात के वक्त कोई अप्रिय स्थिति निर्मित नहीं हो।

गांवों का बुरा हाल
पिछली बाढ़ में बीहर नदी खलनायक बनी थी इस बार बिछिया नदी जोश में है। जिससे शहर भर ही नहीं बल्कि ग्रामीण इलाके भी मुसीबत में हैं। बिछिया के किनारे बसे रायपुर कर्चुलियान तहसील के कोठार, अमिलिया, वरयांटोला, देवतहा, ईटार, नर्रहा सहित कई गांवों में बाढ़ की स्थिति निर्मित हो गई है।

सतना के निचले इलाकों में भरा पानी
सतना शहर में भी जलभराव ने परेशान कर रखा है। करीब एक दर्जन बस्तियों में लोगों के घरों में पानी घुसा। हालांकि स्थिति नियंत्रित है। निचली बस्तियों के लोग अपने-अपने घरों में कैद हो चुके है। सतना-रीवा जिलों का पूरी तरह से संपर्क टूट चुका है। चारों ओर त्राहिमाम जैसी स्थितियां बन गई है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned