तीन माह के तेंदुए की संदिग्ध मौत, शरीर पर मिले चोट के निशान  

bharat pandey

Publish: Dec, 01 2016 11:47:00 (IST)

Sehore, Madhya Pradesh, India
तीन माह के तेंदुए की संदिग्ध मौत, शरीर पर मिले चोट के निशान  

इधर वन विभाग ने बिलकिसगंज क्षेत्र के नीबूखेड़ा और वलोंडिया के बीच विल्ला जोड़ के पास से बरामद किया तेंदुए का शव 

सीहोर। जंगली जानवरों के लिए वन भी सुरक्षित नहीं बचे हैं। गुरुवार को एक तीन-चार माह का तेंदुआ के बच्चे का शव वन विभाग को संदिग्ध अवस्था में मिला है। तेंदुए के शव  पर चोट के निशान पाए गए हैं। इससे तेंदुआ के शिकार का संदेह व्यक्त किया गया है। हालांकि वन विभाग इसे पहाड़ी गिरने से आई चोट के बाद मौत होना मान रहा है।  


जिले के जंगलों में इस समय तेंदुए और बाद्य की दश्हत  है। बुदनी, लाड़कुई, रमगढ़ा आदि के रहवासी इलाकों में जंगली जानवरों के पगमार्ग भी मिले हैं। इधर वन विभाग ने बिलकिसगंज क्षेत्र के नीबूखेड़ा और वलोंडिया के बीच विल्ला जोड़ के पास एक तीन-चार माह के तेंदुए का शव बरामद किया है। वन विभाग को तेंदुए के शव  पर चोट के निशान भी मिले हैं। इससे उसकी मौत संदिग्ध लग रही है। सूत्रों की माने तो शिकारी तेंदुआ के शिकार करना चाहते थे। शिकारियों ने उसका पीछा भी किया था। इससे भागते समय तेंदुआ पहाड़ी से नीचे जा गिरकर औझल हो गया। वहीं वन विभाग तेंदुआ के नीबूखेड़ा और वलोंडिया के बीच पहाड़ी से गिरने के बाद आईचोंट के बाद शावक के मौत होने की बात कह रहा है। वन विभाग के हरीश आर्य ने कहा कि बिलकिसगंज के जंगल से तेंदुए के शावक का शव मिला था। पीएम कराने के बाद उसका अंतिम संस्कार करा दिया गया। उन्होंने तेंदुआ की मौत का कारण हादसे को बताया। वन विभाग का कहना है पीएम रिपोर्टआने के बाद स्थिति का पूरी तरह से खुलासा हो जाएगा।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned