20 वर्षों का आशियाना टूटा

Prashant Sahare

Publish: Nov, 29 2016 10:53:00 (IST)

Seoni, Madhya Pradesh, India
20 वर्षों का आशियाना टूटा

सिवनी. ब्रॉडगेज रेल लाइन व स्टेशन पहुंच मार्ग बनाए जाने के कार्य के चलते नगर के विवेकानंद वार्ड संजय निकुंज कटंगी रोड के किनारे रहने वालों का आशियाना टूट रहा है। रेलवे की सीमा क्षेत्र में आने वाले सात परिवारों को रेलवे ने अपना मकान आशियाना व डेरा हटाने का नोटिस थमाया है।

सिवनी. ब्रॉडगेज रेल लाइन व स्टेशन पहुंच मार्ग बनाए जाने के कार्य के चलते नगर के विवेकानंद वार्ड संजय निकुंज कटंगी रोड के किनारे रहने वालों का आशियाना टूट रहा है। रेलवे की सीमा क्षेत्र में आने वाले सात परिवारों को रेलवे ने अपना मकान आशियाना व डेरा हटाने का नोटिस थमाया है।
लगभग 20 वर्षों से कटंगी रेलवे फाटक के पास रहने वाले सात घरों के लोगों को रेलवे से मिले नोटिस के बाद अब रहने की समस्या उत्पन्न हो गई है।
जिन्हें नोटिस मिला है वे बेहद दुखी हैं और अपना मकान स्वयं ही तोड़ रहे हैं। कुछ लोग किराए के मकान में चले गए हैं तो कुछ गरीबों के समक्ष रहने की विकराल समस्या उत्पन्न हो गई है। ब्रॉडगेज निर्माण कार्य के चलते अब अतिक्रमण के दायरे में आए जिन सात लोगों को नोटिस मिला हैं उनमें शिवराम, दुर्गाबाई विश्वकर्मा, नत्थू, राजेन्द्र, रविबाई बघेल, अखतरअली, जहीर हुसैन लोग शामिल हैं। अखतर अली ने बताया कि सभी को 15 नवम्बर को सात दिन के अंदर मकान हटाने का नोटिस मिला है। रहने की समस्या के चलते रेल प्रशासन, जिला प्रशासन ने न तो उनकी कोई व्यवस्था बनाई है और न ही जनप्रतिनिधि भी कोई मदद कर रहे हैं। यहां रहने वालों के नाम से सभी के राशनकार्ड, बिजली आदि नाम से हैं। जनप्रतिनिधियों को वोट देने के बाद भी अब शहर के आसपास कहीं रहने के लिए सिवनी विधायक, पूर्व सांसद व विधायक भाजपा जिला अध्यक्ष से मांग की है लेकिन वे भी इस ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं। सिवनी के ब्रॉडगेज रेलवे स्टेशन के लिए कटंगी रेलवे फाटक के पास से सड़क मार्ग बनना है। जिसके लिए रेल अधिकारियों ने यहां रहने वाले सात घरों के परिजनों को मकान खाली करने का नोटिस
दिया है। अखतर अली, जाहीर हुसैन का कहना है कि वे मकान तो तोड़ रहे हैं लेकिन रहने के लिए शासन-प्रशासन से कहीं ओर की जमीन दिए जाने की मांग के बाद भी कोई उनकी समस्या सुनने तैयार नहीं है।


Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned