अब पूरे जिले में जारी है नेकी की दीवार

Prashant Sahare

Publish: Nov, 29 2016 03:33:00 (IST)

Seoni, Madhya Pradesh, India
अब पूरे जिले में जारी है नेकी की दीवार

स्थानीय समाजसेवियों द्वारा आरंभ की गई नेकी की दीवार एक माह का सफलतम सफर पूर्ण कर चुकी है।


सिवनी. दिल्ली, मुम्बई और बैंगलोर जैसे महानगरों में निवासरत आम नागरिकों द्वारा ठंड आरंभ होते ही ऐसे व्यक्तियों को गर्म कपडे एवं अन्य जरूरी सामान उपलब्ध कराने के लिए नेकी की दीवार अभियान चलाया जाता रहा है। इसी से प्रेरणा लेकर 25 अक्टूबर से सिवनी मुख्यालय की दलसागर चौपाटी में मां बैनगंगा सेवा अभियान लखनवाडा, सिवनी ब्लड डोनर ग्रुप और स्थानीय समाजसेवियों द्वारा आरंभ की गई नेकी की दीवार एक माह का सफलतम सफर पूर्ण कर चुकी है।
    छोटे स्वरूप में आरंभ हुआ यह नेक कार्य उस समय साकार हुआ, जब मुख्यालय सिवनी सहित छपारा, केवलारी, लखनादौन व पडोसी जिले बालाघाट से आम नागरिकों ने अपने घरों पर रखे अनुपयोगी कपडों को इस दीवार तक पहुंचाया। मुख्यालय सिवनी से भी लगातार प्रतिदिन अनेक व्यक्तिगर्म कपड़े, किताब, साडियां, शर्ट-पेंट एवं कम्बल दान के रूप में दे रहे हैं। जिन्हें प्रतिदिन शाम साढ़े चार बजे रात्रि साढ़े सात बजे तक टीम नेकी की दीवार द्वारा जरूरतमंदों को वितरित किया जाता है। समाजसेवियों ने आम नागरिकों से अपील की है कि वे बढती ठंड को ध्यान में रखते हुए विशेषकर गर्म कपडे नेकी की दीवार में दान करें, ताकि सडक, फुटपाथ, रेलवे स्टेशन जैसे स्थानों पर खुले आसमानों के नीचे अपना जीवन व्यतीत करने वाले जरूरतमंद वर्ग को ठंड से राहत दी जा सके।
    मुख्यालय सिवनी के आसपास विभिन्न वार्डों में निवास कर रहे ऐसे स्थानों के परिवारों तक भी इस बात की सूचना आम नागरिक दें, जिन्हें वास्तव में विपरीत परिस्थितियों में अपना जीवन व्यतीत करना पड रहा है। जन-जन तक यह संदेश यदि पहुंच गया तो इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि आने वाले दिनों में ठंड के भीषण कहर से किसी भी आम नागरिक को आम नागरिक को परेशान नहीं होना पड़ेगा। वास्तव में नेकी की दीवार किसी एक संस्था द्वारा संचालित होना संभव नहीं है। निश्चित रूप से विगत एक माह में ऐसे नागरिकों का सहयोग भी टीम नेकी की दीवार को मिला है, जिन्होंने अपना अमूल्य समय देकर इस नेक कार्य को अंजाम देने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका अदा की है।


Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned