संपत्ति विवाद में सगे चाचा और चचेरे भाई की हत्या

Amit Sharma

Publish: Apr, 21 2017 06:07:00 (IST)

Shahjahanpur, Uttar Pradesh, India
संपत्ति विवाद में सगे चाचा और चचेरे भाई की हत्या

हर कोई सकते में है कि आखिर सम्पत्ति की खातिर एक परिवार का सदस्या अपने चचेरे भाई और चाचा की हत्या कैसे कर सकता है।

शाहजहांपुर। उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर में सम्पत्ति के लिए दो लोगों की बेरहमी से हत्या करने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। युवक ने दोस्त के साथ मिलकर अपने चाचा और चचेरे भाई की गोली मारकर हत्या कर दी। हत्या के पीछे पुलिस की भी बड़ी लापरवाही सामने आयी है क्योंकि हत्याकाण्ड में एक आरोपी सत्ताधारी का करीबी बताया जा रहा है। इस दोहरे हत्याकाण्ड में एक 13 साल की लड़की ही जिन्दा बची है जिसे पुलिस सुरक्षा में रखा गया है। फिलहाल पुलिस फरार हत्यारों की तलाश कर रही है।

संपत्ति को लेकर चल रहा था विवाद
लोगों की भारी भीड़ और पुलिस की भारी मौजूदगी का ये नजारा थाना निगोही कस्बे का है, जहां हर कोई सकते में है कि आखिर सम्पत्ति के खातिर एक परिवार का ही एक शख्स अपने चचेरे भाई और चाचा की हत्या कैसे कर सकता है। दरअसल कस्बे के रहने वाले संतोष नाम के युवक का अपने चचेरे भाई गौरव और अपने चाचा मनीष से सम्पत्ति को लेकर विवाद चल रहा था। संतोष की नजर करोड़ों की सम्पत्ति पर थी लेकिन उसके चाचा मनीष और 17 साल का भतीजा गौरव उस दौलत के बीच में आ रहे थे। दोनों को रास्ते से हटाने के लिए संतोष और उसके दोस्त आशुतोष ने पहले घर में घुसकर अपने 17 साल के चचेरे भाई गौरव को गोली से उड़ा कर उसकी हत्या कर दी। इसके बाद वो अपने चाचा मनीष के घर गया और वहां अपने चाचा के सिर में गोली मारकर उसकी हत्या कर दी। हत्या के बाद संतोष ने दोनों के घरों के बाहर ताले लगा दिये। मौके पर पहुंची पुलिस ने बाद में दरवाजे तोड़कर लाशों को बाहर निकाला। इस दौरान मृतक गौरव की 13 साल की बहन स्कूल गई हुई थी जो जिन्दा बच गयी वर्ना आरोपी संतोष उसकी भी हत्या कर देता।

सत्ताधारी विधायक का करीबी है आरोपी
कस्बे में हुए दोहरे हत्याकाण्ड के बाद पुलिस के हाथ पांव फूल गये क्योंकि मामला भी दो बड़े व्यपारियों की हत्या से जुड़ा था। सूचना मिलते ही कई थानों की पुलिस और पुलिस के आलाधिकारी मौके पर पहुंच गये। हालांकि आरोपियों की तलाश में कई जगहों पर छापेमारी की गई। लेकिन आरोपी एक सत्ताधारी नेता का करीबी होने के कारण पुलिस उसकी गिरफ्तारी नहीं कर पायी है। आरोपी के कस्बे में कई जगाह विधायक के साथ पोस्टर भी लगे हैं। हालांकि पुलिस को सम्पत्ति के विवाद के बारे में पता था लेकिन पुलिस ने राजनीतिक दबाव के चलते इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की। पुलिस का कहना है कि जल्द ही आरोपी की गिरफ्तारी कर ली जायेगी।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned