बैंक में जनधन के खाते खुलवाने उमड़ी भीड़

Shivpuri, Madhya Pradesh, India
बैंक में जनधन के खाते खुलवाने उमड़ी भीड़

सुबह से इंतजार कर  रहीं  महिलाओं के खाते नहीं खुले तो टूटा सब्र, पुलिस उलझीं


शिवपुरी. जनधन का खाता खुलवाने के लिए बुधवार को एसबीआई शाखा गुरुद्वारा चौक पर इतनी भीड़ उमड़ी कि बैंक का बिजनिस कोरस्पोडेंट बना दुकानदार अपनी शटर गिराकर भाग गया। सुबह से इंतजार कर रही महिलाओं के जब सब्र का बांध टूटा तो मौके पर महिला पुलिस बुलवानी पड़ी, लेकिन खाता न खुलने से गुस्साई महिलाएं पुलिसकर्मी से भी उलझ गईं।
गौरतलब है कि इन दिनों हर कोई रुपए के लिए परेशान है। इस बीच किसी ने यह अफवाह फैला दी कि जिन लोगों के जनधन के खाते खुलेंगे, उनमें 15 हजार रुपए से लेकर 1 लाख रुपए तक आएंगे। यह अफवाह शहर में इतनी तेजी से फैली कि  बुधवार की सुबह गुरुद्वारा चौक स्थित एसबीआई बैंक की शाखा में महिला-पुरुषों की भीड़ उमड़ पड़ी। चूंकि बैंक के पास स्टाफ की कमी है, इसलिए बैंक के पड़ोस में ही स्थित जैन कम्यूनिकेशन (बैंक का बिजनिस कोरस्पोडेंट) को खाते खोलने का काम सौंप दिया। चूंकि भीड़ वैसी ही उमड़ी, जैसी रुपए बदलने वालों की थी, इसलिए दुकान संचालक भी दोपहर 12 बजे शटर गिराकर भाग निकला। इस बीच फार्म देने से लेकर भरने के एवज में इन खाता खुलवाने आए लोगों से 10 से 50 रुपए तक वसूल किए गए।
दुकान का शटर बंद हो जाने से खाता खुलवाने आईं इन महिलाओं ने हंगामा करना शुरू कर दिया। हालात बिगड़ते देख पुलिस कंट्रोल रूम फोन लगाकर महिला पुलिसकर्मियों को बैंक में बुलवाया गया। चूंकि महिलाएं सुबह से लाइन में लगी थीं और फिर भी उनका खाता खुल पाएगा, इसकी कोई गारंटी नहीं थी, इसलिए वे बुरी तरह से बिफर पड़ीं। महिला पुलिसकर्मी उन्हें समझाने का प्रयास करती रहीं, लेकिन परेशान हो रहीं महिलाएं अपने गुस्से पर काबू नहीं रख पाईं और पुलिस से ही उलझगईं। बाद में दुकानदार को फोन करके बुलवाया गया, तब जिनके फार्म भर गए थे, उन्हें जमा कर लिए गए।

अफवाह से बढ़ी भीड़
 बुधवार को  जनधन के खाते में पैसा आने की अफवाह के चलते खाते खोलने वालों की भीड़ एकाएक बढ़ गई।  चूंकि हमारे पास सीमित स्टाफ है, इसलिए अपने बिजनिस कोरस्पोडेंट दुकानदार को यह काम दिया है। जिनके खाते पहले से हैं, वे भी लाइन में लग रहे हैं। अब हम क्या करें।
राकेश सूद, लीडबैंक अधिकारी



Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned