योगी का यूपी के इस जिले से है गहरा नाता, साल में दर्जनों बार यहां के लोगों से करते हैं मुलाकात

Siddharthnagar, Uttar Pradesh, India
योगी का यूपी के इस जिले से है गहरा नाता, साल में दर्जनों बार यहां के लोगों से करते हैं मुलाकात

योगी के सीएम बनने से लोगों को हैं उम्मीदें,  खुल सकता है जिले में विकास का द्वार

सिद्धार्थनगर. यूपी के सीएम बने गोरखपुर के सांसद महंथ आदित्यनाथ का बुद्धभूमि से पुराना नाता है। वह साल में दर्जन भर से ज्यादा बार जिले का दौरा करने की वजह से लोगों के बीच काफी लोकप्रिय हैं। उनके सीएम बनने से जिले में उपेक्षित पड़े भगवान बुद्ध की क्रीड़ास्थली कपिलवस्तु में विकास के पंख लगने की उम्मीद बढ़ गई है। 





सीएम योगी आदित्यनाथ पड़ोसी जिले गोरखपुर के रहने वाले हैं। वह वहां के प्रसिद्ध मंदिर गोरखनाथ के महंथ होने के साथ अपराजेय सांसद हैं। उनका जिले में खूब आना-जाना रहा। उन संगठन हियुवा भी जिले की सियासत में काफी दखल रखता है। हियुवा से प्रदेश प्रभारी राघवेन्द्र सिंह को डुमरियागंज व हियुवा के जिला प्रभारी श्यामधनी राही को कपिलवस्तु विधानसभा क्षेत्र से विधानसभा में टिकट दिलाकर हाईकमान तक अपनी जोरदार सियासी पहुंच को लोगों को बता दिया था। इतना ही नहीं उन्होंने अपने संगठन से जुड़े दोनों को जिताने में भी कामयाबी हासिल की। उनकी जिले में कितनी मजबूत पैठ है इसका अंदाजा इस बात से भी लगाया जा सकता है। 







चुनाव प्रचार बंद होने चंद घंटे पहले कठेला में शोहरतगढ़ व इटवा विधानसभा की संयुक्त सभा कर माहौल ऐसा बदल दिया था कि इटवा और शोहरतगढ़ में हारी बाजी भी भाजपा जीतने में कामयाब रही। बडे़ सियासी रसूख वाले महंथ आदित्यनाथ  के सीएम बनने से जिले के विकास की भी उम्मीद जुड़ गई है। जिले के उत्तर में नेपाल सीमा से सटे भगवान बुद्ध की क्रीड़ास्थली कपिलवस्तु में स्थित है जहां उन्होंने अपने जीवन के प्रथम 29 साल राजकुमार सिद्धार्थ के रूप में गुजारे थे। यहीं पर उनके अस्थि का अष्टम भाग भी दफन है। यहां पर प्रति वर्ष हजारों की तादाद में देशी-विदेशी पर्यटक आकर माथा टेकते हैं लेकिन विकास के नाम पर कुछ भी नहीं है। खाने-पीने से लेकर ठहरने तक की कोई व्यवस्था नहीं है। ऐसे में यहां आने वाले पर्यटकों को सिर्फ निराशा ही हाथ लगती है। 





मायावती ने की थी एयर स्ट्रिप बनाने की घोषणा
1995 में भाजपा से मिल कर प्रदेश में सरकार बनाने वाली तत्कालीन मुख्यमंत्री मायवती ने कपिलवस्तु में एयर स्ट्रिप बनाने के साथ कई अन्य परियोजनाओं की घोषणा की थी। इनमें से आधे से अधिक का पता नहीं है। एयर स्ट्रिप को मायावती के बाद मुख्यमंत्री बने कल्याण सिंह ने यह कहते हुए निरस्त कर दिया था कि पर्यटन की संभावनाएं क्षीण हैं। किसानों को अधिग्रहित जमीन वापस कर दी गई थी। 




राजनाथ ने 180 फुट ऊंची बुद्ध प्रतिमा लगाने का किया था शिलान्यास
2002 में कपलिवस्तु के दौरे पर आए तत्कालीन मुख्यमंत्री राजनाथ सिंह ने अफगानिस्तान के बामयान की तर्ज पर कपिलवस्तु में 180 फुट ऊंची भगवान बुद्ध की प्रतिमा लगाने के लिए प्रतीकात्म प्रतिमा का शिलान्यास किया था लेकिन मामला आज तक शिलान्यास से आगे नहीं बढ़ा। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned