थानेदार साहब के घर में चोरों ने साफ किया हाथ, घटना को छिपाने में जुटी पुलिस

Nitin Srivastava

Publish: Jul, 17 2017 10:15:00 (IST)

Lucknow, Uttar Pradesh, India
थानेदार साहब के घर में चोरों ने साफ किया हाथ, घटना को छिपाने में जुटी पुलिस

सीतापुर जिले के पिसावां थाने में थानेदार साहब के आवास से बेखौफ चोरों ने हाथ साफ कर दिया। घटना के बाद अपनी बदनामी के डर से थानेदार साहब घटना को छिपाने में जुटे हुए हैं।

सीतापुर. सीतापुर जिले के एक थानाध्यक्ष के आवास पर रविवार को चोरों ने हाथ साफ कर दिया। योगी सरकार में जब पुलिस ही सुरक्षित नहीं है तो आम जनता की सुरक्षा व्यवस्था का तकाजा आप आसानी से लगा सकते हैं। सीतापुर पुलिस थानों में तैनात जिम्मेदारों पर अब उनकी ही लापरवाही या यूं कहें कि उनके द्वारा दिया गया अपराधियों का संरक्षण भारी पड़ता नजर आ रहा है।




थानेदार साहब को बदनामी का डर

दरअसल सीतापुर जिले के पिसावां थाने में थानेदार साहब के आवास से बेखौफ चोरों ने हाथ साफ कर दिया। घटना के बाद अपनी बदनामी के डर से थानेदार साहब घटना को छिपाने में जुटे हुए हैं। जानकारी के अनुसार पिसावां थानाध्यक्ष जयशंकर सिंह शाम के समय क्षेत्र में गए हुए थे, तभी रात करीब साढ़े आठ बजे जब वे वापस आए तो देखा की कमरे में रखा उनका लैपटॉप, नगदी, हाथ घड़ी व कपड़े वहां मौजूद नहीं हैं। जिसे चोर चुरा ले गए हैं। घटना की जानकारी होते ही पूरे थाने में सनसनी फैल गई। अचानक पूरी फोर्स ने थाना परिसर के पीछे खेतों व जंगल में सघन सर्च अभियान में चला दिया और उसी दौरान सिपाहियों ने देखा कि थाना परिसर के पीछे खेतों में ब्रीफकेस का टूटा हुआ पड़ा था। उसमें रखा सामान गायब था। वहीं जब इस मामले में थानाध्यक्ष जयशंकर सिंह से बात की गई तो उन्होंने घटना से इनकार कर दिया और कहा कि रात में कुछ मामला संदिग्ध दिखा था। जिसके चलते सघन सर्च अभियान चलाया गया है और यही कहकर के बात को टाल दिया।




सीतापुर में पहले भी थाना परिसरों में होती रही है चोरी

खाकी के इकबाल को सीधे तौर पर धता बताते हुए सीतापुर में चोर पहले भी थाना इंचार्जों के आवासों को निशाना बनाते रहे हैं। करीब पिछले दो वर्षों में जिले के खैराबाद और रामकोट थानों के इंचार्जों के आवास लुटे गये थे, जिनके बाद भी पुलिस ने मामलों को दबाने का प्रयास किया था। जहां खैराबाद थाना अध्यक्ष की खाकी वर्दी रेलवे लाइन के किनारे पड़ी पाई गई थी, तो रामकोट कोतवाल का काफी सामान आवास से नदारद था।


Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned