बैंकों के बाहर लाइनों में कमी नहीं, करेंसी की कमी झेल रहे हैं उपभोक्ता

Kaushlendra Singh

Publish: Dec, 01 2016 11:10:00 (IST)

Lucknow, Uttar Pradesh, India
बैंकों के बाहर लाइनों में कमी नहीं, करेंसी की कमी झेल रहे हैं उपभोक्ता

बैंकों में खत्म हो चुका है कैश, खाते में पैसा फिर भी कर नहीं सकते हैं ऐश

- हिमांशु पुरी

सीतापुर।
8 नवम्बर को देश के प्रधानमंत्री द्वारा 500 व 1000 के नोट बंदी के बाद नगर व ग्रामीण क्षेत्र में स्थापित बैंकों के बाहर अभी भी लम्बी-लम्बी लाइनें निकासी व जमा करने के लिये देखी जा रही हैं। सबसे अधिक समस्या बैंक में करेंसी न होने के कारण नजर आ रही है।

इन दिनों सुबह आठ बजे से बैंकों के आगे उपभोक्ताओं की लम्बी लाइनें लग जाती है। जो कि शाम 6 बजे तक घटने का नाम नहीं लेती है। सीतापुर के नगर महमूदाबाद क्षेत्र में स्टेट बैंक, इलाहाबाद बैंक, यूको बैंक, बैंक आॅफ इण्डिया, इलाहाबाद यूपी ग्रामीण बैंक, ओरियन्टल बैंक आॅफ कामर्स, एचडीएफसी, एक्सिस बैंक स्थापित हैं। उक्त बैंकों में से सर्वाधिक भीड़ स्टेट बैंक, इलाहाबाद बैंक, इलाहाबाद यूपी ग्रामीण बैंक, बैंक आॅफ इण्डिया, यूको बैंक पर दिखाई देती है। क्योंकि इन बैंकों में मजदूरों, ग्रामीणों, किसानों व व्यापारियों के खाते हैं। इलाहाबाद यूपी ग्रामीण बैंक में सोमवार से करैंसी नहीं हैं। जिसके कारण उपभोक्ताओं को धनराशि नहीं मिल पा रही है। मंगलवार को तीन बजे तक इलाहाबाद यूपी ग्रामीण बैंक में नगदी न पहुंचने के कारण केवल खातेदारों के धन जमा करने का काम ही हो सका। लगभग यही स्थिति इलाहाबाद बैंक की है। सुबह से धन निकासी के लिये लोगों की लम्बी लम्बी लाइन लगती है लेकिन दोपहर होते-होते धनराशि न होने के कारण लोगों को धन नहीं मिल पाता है। यूको बैंक व बैंक आॅफ इण्डिया में सुबह से ही महिलाओं, युवाओं, बुजुर्गाें की लाइनें देखी जाती हैं और शाम 6 बजे तक लाइनें लगी रहती हैं। बैंकों द्वारा धनराशि की कमी होने की बात कहकर कभी 2000, कभी 4000 उपभोक्ताओं को धनराशि देकर काम चलाया जा रहा है।

चार करोड़ हो चुके हैं जमा- अंशुमान

बैंक आॅफ इण्डिया महमूदाबाद के शाखा प्रबंधक अंशुमान तिवारी से जब बैंक में धनराशि को लेकर बात की गई तो उन्होंने कहा कि नोटबंदी से अब तक बैंक में लगभग चार करोड़ रुपये की धनराशि जमा हुई है तथा लगभग दो करोड रूपये की धनराशि बैंक उपभोक्ताओं को रिजर्व बैंक के निर्देशानुसार वितरित किया गया है। उन्होंने कहा कि नये नोटो में अभी 500 के नोट बैंक को प्राप्त नहीं हुए हैं। दो हजार के नोट तथा अन्य छोटे नोटों के उपभोक्ताओं को धनराशि दी जा रही है। जनधन खाते के सम्बंध में उन्होंने बताया कि जनधन खातों से भी निकासी की जा रही है। जनधन खातों की निकासी व जमा पर किसी प्रकार की रोक नहीं है। उन्होंने कहा जनधन खातों पर उपभोक्ता साल भर में पचास हजार से लेकर एक लाख रूपये तक जमा कर सकता है और आवश्यक्तानुसार जमा किये गये धन की निकासी कर सकता है। धन की निकासी रिजर्व बैंक के निर्देशानुसार ही होगी।

नहीं खुले एटीएम

सीतापुर के महमूदाबाद नगर में स्थापित विभिन्न बैंकों के आधा दर्जन से अधिक एटीएम बंद रहे। स्टेट बैंक का एटीएम खुला किन्तु करीब एक घण्टे बाद एटीएम से धनराशि खत्म हो जाने के कारण यह भी बंद हो गया जिसके चलते लोग काफी हलकान रहे।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned