अब पाक के कोने-कोने तक कहर बरपाएगी नई ब्रम्होस मिसाइल

Special
अब पाक के कोने-कोने तक कहर बरपाएगी नई ब्रम्होस मिसाइल

भारत के पास अभी ब्रह्मोस की रेंज 300 किलोमीटर है, जिससे पाकिस्तान में हर जगह प्रहार करना संभव नहीं है

नई दिल्ली। रूस के साथ मिलकर भारत नई जेनरेशन की ब्रह्मोस मिसाइल बनाएगा। इस मिसाइल की रेंज 600 किलोमीटर से कुछ अधिक होगी, जिसमें पूरा पाकिस्तान आ जाएगा। इस मिसाइल से पाकिस्तान के खिलाफ भारत की मारक क्षमता बढ़ जाएगी और दुश्मन के ठिकानों पर अचूक निशाना लगा पाएगा।

भारत इस साल जून में मिसाइल टेक्नॉलजी कंट्रोल रिजीम (एमटीसीआर) का मेंबर बना था। रूस इससे खुश है, इसलिए वह भारत के साथ मिलकर नई जेनरेशन की ब्रह्मोस मिसाइल बनाने के लिए तैयार है। एमटीसीआर की गाइडलाइंस में कहा गया है कि सदस्य देश 300 किलोमीटर से अधिक रेंज की मिसाइल गु्रप से बाहर के देशों को ना ही बेच सकते हैं और ना ही उनके साथ मिलकर इन्हें बना सकते हैं। ब्रह्मोस की रेंज अभी 300 किलोमीटर है, जिससे पाकिस्तान में हर जगह प्रहार करना संभव नहीं है। भारत के पास नई जेनरेशन की ब्रह्मोस मिसाइल से अधिक रेंज की बलिस्टिक मिसाइल हैं, लेकिन ब्रह्मोस की खूबी यह है कि उससे खास टारगेट को तबाह किया जा सकता है। यह पाकिस्तान के साथ किसी टकराव की सूरत में गेम चेंजर साबित हो सकती है।

बिना पायलट का लड़ाकू विमान
बैलस्टिक मिसाइल को आधी दूरी ही गाइड किया जाता है। इसके बाद की दूरी वे ग्रैविटी की मदद से तय करती हैं। वहीं क्रूज मिसाइल की पूरी रेंज गाइडेड होती है। ब्रह्मोस क्रूज मिसाइल है। यह बिना पायलट वाले लड़ाकू विमान की तरह होगी, जिसे बीच रास्ते में भी कंट्रोल किया जा सकता है। इसे किसी भी एंगल से अटैक के लिए प्रोग्राम किया जा सकता है।

दुश्मन के मिसाइल डिफेंस को देगी चकमा
यह दुश्मन के मिसाइल डिफेंस सिस्टम से बचते हुए उसकी सीमा के अंदर घुसकर ठिकानों को तबाह करने का दमखम रखती है। मिसाल के लिए, ब्रह्मोस से पहाड़ी इलाकों में बने आतंकियों के कैंपों को निशाना बनाया जा सकता है। गोवा में हुए द्विपक्षीय समझौते में दोनों देशों के बीच नई मिसाइल बनाने पर सहमति बनी। समझौते के तहत ऐसी कम रेंज की मिसाइल भी बनाने की बात है, जिसे सबमरीन और हवाई जहाज से लॉन्च किया जा सकता है।

पुतिन ने रूस में किया खुलासा
सम्मेलन के वक्त मिसाइल समझौते की जानकारी नहीं दी गई थी, हालांकि फ्रिजेट्स और एस 400 एयर डिफेंस सिस्टम खरीदने के सौदों का ऐलान किया गया था। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने रूस के पत्रकारों को मिसाइल डील साइन किए जाने की जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि हम ब्रह्मोस मिसाइल को इंप्रूव करने पर सहमत हुए हैं। इसके अपग्रेडेड वर्जन को जमीन, हवा और समुद्र से लॉन्च किया जा सकेगा। हम इसकी रेंज बढ़ाने पर भी काम करेंगे। हम साथ मिलकर फिफ्थ जेनरेशन एयरक्राफ्ट पर भी काम करेंगे।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned