अब महिलाएं भी खड़े-खड़े करेंगी पेशाब, जानकर रह जाएंगे हैरान 

Special
अब महिलाएं भी खड़े-खड़े करेंगी पेशाब, जानकर रह जाएंगे हैरान 

महिलाएं अब खड़े खड़े पेशाब करेंगी। जी हां विदेश में एक संस्था ने इस पर मुहर लगाई है। संस्था का कहना है कि गंदे टॉयलेट को लेकर महिलाओं को इस परेशानी का सामना करना पड़ता है। इसे दूर करने के लिए यह फैसला लिया गया है।

नई दिल्ली: खबर सुनने में थोड़ी सी अटपटी जरूर लगेगी। लेकिन यह सच है कि अब महिलाएं भी खड़े खड़े पेशाब करेंगी। हां लेकिन भारत में नहीं, विदेशों में।  ऑस्ट्रिया में ग्रीन पार्टी नाम की एक संस्था महिलाओं को खड़े होकर पेशाब करने की ट्रेनिंग देने की योजना तैयार कर रही है। 

गंदे टॉयलेट को लेकर लिया गया फैसला
दरअसल सार्वजनिक जगहों पर गंदे टॉयलेट को देखते हुए यह फैसला लिया गाया है। बताया जा रहा है कि घरों के बाहर टॉयलेट गंदे होते हैं। महिलाओं को बाथरूम की बड़ी समस्या हो जाती है। ऐसे में संस्था ने ये फैसला लिया है।ग्रीन पार्टी समय-समय पर पर्चटोल्डसड्रॉफ (Perchtoldsdorf) ) शहर में नाश्ते के बहाने महिलाओं को एकत्र कर उन्हें राजनीतिक सामाजिक जैसे मुद्दों पर बात करने का मौका देती रहती है।  शनिवार को हुई ऐसी ही एक बैठक में तय हुआ कि यह संस्था महिलाओं को सार्वजनिक शौचालय में खड़े होकर पेशाब करना सिखाएगी।

काफी जद्दोजहद के बाद बनी सहमति
स्थानीय काउंसलर और ग्रीन पार्टी के सदस्य मार्था गुंजाल ने बताया कि बैठक में जब इस मुद्दे पर बातचीत हुई तो लोग अचंभित थे। लेकिन मंथन के बाद सहमति बन गई।

किट की मदद से महिलाएं करेंगी खड़े होकर पेशाब
बताया जा रहा है कि एक किट की मदद से महिलाएं खड़े होकर पेशाब कर पाएंगी। यह किट एक नली जैसी है।इसके इस्तेमाल के बाद महिलाएं इसे फेंक सकती हैं। इस किट का इस्तेमाल करने के बाद महिलाओं को गंदी शौचालय की सीट पर बैठने की जरूरत नहीं पड़ेगी।
भारत में भी चल रही है लागू करने की तैयारी
मालूम हो कि दुनिया के कुछ देशों में महिलाओं को खड़े होकर पेशाब करने की सुविधा प्रदान करने वाला किट पहले से इस्तेमाल होता रहा है, लेकिन विकासशील देशों में अभी इसका चलन नहीं के बराबर है। पिछले दिनों एक कंपनी ने भारत में भी इस किट को लाने की बात कही थी। कई घंटों तक पेशाब रोके रखने के चलते दुनिया की करोड़ों महिलाएं यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन (यूटीआई) से ग्रसित होती हैं। उम्मीद की जा रही है कि इस किट को अगर कम कीमत में और आसानी से उपलब्ध कराए जाएं तो महिलाओं की एक बड़ी समस्या दूर हो सकती है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned