प्यार की मिसालः जेल में बंद नाइजेरियन पति को छुड़ाने सरगुजा की महिला ने उठाया यह कदम

Surajpur, Chhattisgarh, India
प्यार की मिसालः जेल में बंद नाइजेरियन पति को छुड़ाने सरगुजा की महिला ने उठाया यह कदम

3 महीने पूर्व सूरजपुर एसपी ऑफिस के पास से किया गया था गिरफ्तार, दिन रात एक कर अपना वीजा व पासपोर्ट बनवाने के साथ ही पति के लैप्स हो चुके वीजा को भी एक्सटेंड कराया

सूरजपुर. बगैर वैध वीजा के सूरजपुर में एसपी ऑफिस के समीप घूम रहे नाइजीरियन युवक को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। 3 माह बाद उसे हाईकोर्ट से जमानत मिल गई और वह जेल से छूटते ही अपनी भारतीय पत्नी के साथ स्वदेश लौटने दिल्ली रवाना हो गया। जेल में बंद रहने के दौरान उसकी सरगुजिहा पत्नी ने इधर 3 महीने तक दौड़-भाग कर अपना भी वीजा बनाया और पति की वीजा अवधि भी बढ़वाई।

गौरतलब है कि नाइजीरियन 25 वर्षीय लक्की ओगबेबर लगभग दो वर्ष पूर्व रिपब्लिक ऑफ नाइजीरिया के बेर्न फेडरेल से दिल्ली घूमने आया था। इसी दौरान सोशल मीडिया के माध्यम से जिले के प्रतापपुर की एक आदिवासी युवती से प्रेम संबंध बन जाने के बाद दिल्ली में ही आर्य समाज के मंदिर में दोनों ने विवाह किया।

फिर  दोनों बतौर पति-पत्नी रहने लगे थे। इसी बीच ओगबेबर के वीजा की अवधि समाप्त हो गई। जब बहुत प्रयास के बावजूद जब वीजा की अवधि नहीं बढ़ सकी तो वे दोनों प्रतापपुर आकर युवती के घर ही रहने लगे।

जेल में मिला सभी का प्यार, सीख ली हिन्दी
उच्च न्यायालय से जमानत पर छूटे ओगबेबर ने बताया कि जेल में उसे ज्यादा परेशानी नहीं हुई। हिन्दी का ज्ञान न होनें के कारण लैंग्वेज प्राब्लम थी। जेल में अधीक्षक, स्टाफ  के अलावा सभी निरूद्ध बंदियों ने भरपूर प्यार दिया। जेल में रहकर उसने हिन्दी में बोलना और समझना भी सीख लिया। उसने सभी के प्रति कृतज्ञता व्यक्त कि और कहा कि स्वदेश लौट जाने के बाद भी वो यहां अपनी पत्नी के साथ आता रहेगा।

आया था वीजा बनवाने चला गया जेल
ओगबेबर ने जेल से निकलने के बाद बताया कि वो सूरजपुर एसपी ऑफिस पत्नी के पासपोर्ट व वीजा के लिए आया था। लेकिन पुलिस ने वीजा अवधि समाप्त होने का कारण बताकर उसे गिरफ्तार करने के बाद जेल भेज दिया था।

उसने बताया कि स्वदेश लौटने में हो रही परेशानी के मद्देनजर अधिवक्ता ने सलाह दी थी कि वो पहले अपनी पत्नी का पासपोर्ट और वीजा बनवाए और इसी माध्यम से अपना वीजा बनवा सकेगा। इसलिए वो पत्नी को लेकर एसपी ऑफिस पहुंचे थे लेकिन उन्हें उल्टे 3 महीने के लिए जेल जाना पड़ गया।

पत्नी के प्रयास से मिली जमानत
जेल में बंद ओगबेबर को छुड़ाने के लिए पत्नी ने पूरी ताकत लगा दी। दरअसल वीजा अवधि समाप्त होने की वजह से पुलिस ने ओगबेबर को गिरफ्तार किया था। इसलिए उसकी वीजा अवधि बढ़ाना आवश्यक था। साथ ही दोनों को स्वदेश लौटने के लिए पत्नी का वीजा बनना भी आवश्यक था।

इसके लिए ओगबेबर की पत्नी ने दौड़-भाग कर अपना वीजा व पासपोर्ट बनवाया और ओगबेबर की भी वीजा अवधि बढ़वाई। बताया जा रहा है कि इसी आधार पर उच्च न्यायालय ने ओगबेबर को जमानत दी।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned