पावर प्लांट का सपना तो टूटा ही, जमीन की खरीद-बिक्री पर बैन ने तो कमर ही तोड़ दी

Pranayraj rana

Publish: Feb, 17 2017 12:31:00 (IST)

Surajpur, Chhattisgarh, India
पावर प्लांट का सपना तो टूटा ही, जमीन की खरीद-बिक्री पर बैन ने तो कमर ही तोड़ दी

ग्राम सुंदरपुर में भैयाथान थर्मल पावर प्लांट के नाम पर 5 गांव की 534 हेक्टेयर भूमि शासन ने की थी अधिग्रहित,  4 अन्य गांव की भी जमीन की खरीद-बिक्री पर 2006 से लगा प्रतिबंध आज तक है जारी

सूरजपुर. 9 गांव के ग्रामीणों को 13 साल पहले पावर प्लांट का सपना दिखाकर भूमि की खरीद-बिक्री पर तात्कालीन सरगुजा कलक्टर ने प्रतिबंध तो लगा दिया। लेकिन प्रस्तावित स्थल पर आज तक पावर प्लांट नहीं लग पाया और न ही भूमि की खरीद- बिक्री पर लगा प्रतिबंध हट सका। नतीजतन इन 9 गांव में रहने वाले लोग जरूरत पडऩे पर अपनी जमीन की बिक्री नहीं कर पा रहे हैं।

गौरतलब है कि जिले के भैयाथान व सूरजपुर तहसील के सरहदी ग्राम सुन्दरपुर में भैयाथान थर्मल पावर प्लांट की स्थापना हेतु वर्ष 2002- 03 में तात्कालीन मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने आधारशिला रखी थी। भूमिपूजन एवं शिलान्यास के बाद थर्मल पावर प्लांट हेतु 5 गांव की भूमि का अधिग्रहण किया गया था। इसके बाद सरगुजा कलक्टर ने सूरजपुर तहसील के 4 ग्राम बसदेई, नेवरा, लोधिमा, झांसी तथा भैयाथान तहसील के 5 ग्राम सुन्दरपुर, सिरसी, मसिरा, चोपन एवं रगदा की समस्त भूमि की खरीद-बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया, जो आज भी यथावत लागू है।

 सुन्दरपुर में पावर प्लांट लगने की सूचना पर क्षेत्र में सक्रिय हुए भू माफियाओं के कारण सुन्दरपुर समेत आसपास के 9 ग्रामों की जमीन खरीद- बिक्री पर तात्कालीन सरगुजा कलक्टर मनोज कुमार पिंगुआ ने वर्ष 2006 में प्रतिबंध लगया था। उन्होंने भूमि खरीद- बिक्री के प्रतिबंध हेतु जारी आदेश में सूरजपुर एसडीएम के प्रतिवेदन का हवाला देते हुए स्पष्ट किया था कि ग्राम मसिरा, सुन्दरपुर, सिरसी, रगदा, चोपन के अलावा झांसी, बसदेई, नेवरा और लोधिमा में जमीन की खरीदी और बिक्री अचानक ज्यादा होने लगी है।

गांवों में अधिग्रहित की गई भूमि
सुन्दरपुर में प्रस्तावित ताप विद्युत उत्पादन केन्द्र के लिए छत्तीसगढ़ राज्य विद्युत मण्डल के नेतृत्व में जिला प्रशासन ने 5 ग्रामों की 534.513 हेक्टेयर भूमि का अधिग्रहण किया था। इसके तहत सिरसी में 201.316 हेक्टेयर, चोपन में 1.560 हेक्टेयर, रगदा में 61.440 हेक्टेयर, मसिरा में 243.550 हेक्टेयर और लोधिमा में 26.243 हेक्टेयर भूमि अधिग्रहित की गई।

पावर प्लांट का नहीं है अता- पता
भैयाथान के ग्राम सुन्दरपुर में थर्मल पावर प्लांट की स्थापना के उद्देश्य से प्रशासनिक स्तर पर भूमि अधिग्रहण की कार्रवाई तो आनन- फानन में की गई। लेकिन जितनी तत्परता भूमि अधिग्रहण में दिखाई गई उतनी तत्परता पावर प्लांट की स्थापना में नहीं दिखाई गई। भैयाथान के ग्राम सुन्दरपुर में प्रस्तावित ताप विद्युत उत्पादन केन्द्र के लिए छत्तीसगढ़ राज्य विद्युत मण्डल ने देश की प्रमुख औद्योगिक इकाई इंडिया बुल्स के साथ हाथ मिलाया और संयुक्त साझेदारी से 600 मेगावाट विद्युत उत्पादन केन्द्र स्थापित करने की पहल की गई। लेकिन भूमि अधिग्रहण होते ही भैयाथान थर्मल पावर प्लांट की कार्रवाई ठप हो गई।


बंटवारे व नामांतरण के कार्य अटके
प्रशासनिक स्तर पर भैयाथान विकासखण्ड के ग्राम मसिरा, सुन्दरपुर, सिरसी, रगदा, चोपन के अलावा सूरजपुर विकास खण्ड के ग्राम झांसी, बसदेई, नेवरा और लोधिमा में जमीन की खरीदी और बिक्री पर प्रतिबंध लगा देने के कारण इन गावों के कृषक काफी परेशान हंै। वे न तो किसी की जमीन खरीद पा रहे हैं और न ही जरूरत पडऩे पर अपनी जमीन बेच पा रहे हैं। इतना ही नहीं प्रतिबंध के कारण भूस्वामी हक की भूमि के बंटवारे और नामांतरण के कार्य भी अटके हुए है। प्रतिबंध हटाने के लिए ग्रामीणों द्वारा कई बार प्रशासन को ज्ञापन सौंपा गया है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned