आठ वाटर वक्र्स बनेंगे हरियाली का मॉडल

Mukesh Sharma

Publish: Jul, 17 2017 08:54:00 (IST)

Surat, Gujarat, India
आठ वाटर वक्र्स बनेंगे हरियाली का मॉडल

मानसून के दौरान शहर के विभिन्न क्षेत्रों में पौधारोपण अभियान के तहत मनपा अपनी सम्पत्तियों पर खास फोकस

सूरत।मानसून दौरान शहर के विभिन्न क्षेत्रों में पौधारोपण अभियान के तहत मनपा अपनी सम्पत्तियों पर खास फोकस करेगी। मनपा अपनी जमीनों को हरा-भरा करने के साथ उसे ग्रीन पट्टी के रूप में विकसित करेगी। शहर के सभी आठ वाटर वक्र्स इसके रोल मॉडल बनाए जाएंगे, जहां आगामी दिनों में 15 सौ से अधिक पौधे लगेंगे।

शहर में आबादी के हिसाब से हरियाली का अनुपात कम है। इस कमी को पूरा करने के लिए मनपा प्रशासन ने इस साल करीब दो लाख पौधारोपण का लक्ष्य रखा है। इसमें विभागीय स्तर पर पौधे लगाने के अलावा लोगों के जरिए पौधारोपण शामिल है। स्कूल-कॉलेज, सोसायटियों समेत सरकारी और खुले प्लॉटों में पौधारोपण किया जा रहा है। मनपा प्रशासन ने कैनाल, खाडिय़ों के अलावा हर ऐसी खाली जगह पर फोकस किया है, जहां पौधारोपण की संभावना है। हाल ही मनपा की पानी समिति की मीटिंग में हाईड्रोलिक विभाग की खाली जमीनों पर पौधारोपण के बारे में चर्चा हुई। समिति अध्यक्ष प्रवीण घोघारी ने बताया कि मानसून दौरान हरेक सप्ताह एक-एक वाटर वक्र्स में पौधारोपण की योजना बनी है।

 इसमें गार्डन विभाग के अलावा पानी समिति और हाईड्रोलिक विभाग के अधिकारी शामिल होंगे। शहर में मनपा के आठ वाटर वक्र्स हैं, जहां पौधारोपण किया जाएगा। इन सभी जगह 15 सौ से दो हजार पौध लगाए जाएंगे।


वाटर वक्र्स में कई बार पानी की टंकियों समेत कुछ दूसरे प्रोजेक्ट आते रहते हैं। प्रोजेक्ट वाली जगह पेड़ होने पर इन्हें हटाना विभाग की मजबूरी होती है। इस वजह से प्रशासन यहां ऐसे पौधों को प्राथमिकता देता है, जिन्हें  पांच-सात साल में हटाने के बाद पालिका को कुछ लाभ हो। इससे शहर को हरियाली और ग्रीन एनवायरमेंट मिलेगा तो पेड़ों की नीलामी से आय होगी। इन पेड़ों को काटने के लिए मनपा को विशेष अनुमति लेने की जरूरत नहीं होती। गार्डन विभाग के अनुसार ऐसी जगह फर्नीचर वुड में महोगनी, नीलगिरी, टीकवुड आदि लगाए जाते हैं।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned