थोड़ा ही सही, पुरुष परिधान का भी कब्जा

Mukesh Sharma

Publish: Apr, 21 2017 12:49:00 (IST)

Surat, Gujarat, India
थोड़ा ही सही, पुरुष परिधान का भी कब्जा

सब जानते हैं कि सूरत के कपड़ा बाजार में केवल और केवल नारी की सुंदरता को निखारने वाली साड़ी और ड्रेस का ही

सूरत।सब जानते हैं कि सूरत के कपड़ा बाजार में केवल और केवल नारी की सुंदरता को निखारने वाली साड़ी और ड्रेस का ही देश व दुनिया में कारोबार होता है, लेकिन यहीं सच नहीं है। साड़ी और ड्रेस के 90 फीसदी से अधिक कारोबार वाले सूरत के कपड़ा बाजार में पांच-दस प्रतिशत कारोबार पुरुष परिधान का भी होता है। यहां बात कुर्ता फेब्रिक्स की हो रही है, जो कि पुरुषों के आकर्षण का केंद्र बनता है।

सूरत के कपड़ा बाजार को जानने वाले इस बात से वाकिफ है कि रिंगरोड के दाएं और बाएं करीब दो-ढाई किलोमीटर में पौने दो सौ से अधिक छोटी-बड़ी टैक्सटाइल इमारते हैं। यहां की हजारों दुकानों से कपड़े का कारोबार देश व दुनियाभर में किया जाता है। रिंगरोड की भी खासियत यह है कि एक तरफ साड़ी और दूसरी तरफ ड्रेस के कारोबार से जुड़े ही व्यापारिक प्रतिष्ठान अधिक है। इनके बीच पुरुष परिधान के कारोबारी भी इक्का-दुक्का ही सही लेकिन कोलकाता-मुंबई जैसी मंडियों को टक्कर देने में सक्षम है। हालांकि अब तो सूरत का कपड़ा बाजार  साड़ी-ड्रेस के अलावा कपड़े से जुड़ी सभी तरह की डिमांड देशभर की मंडियों में पूरी करता है। इसमें टेंट, पर्दा, होजरी, शर्टिंग, कुर्ता फेब्रिक्स समेत अन्य शामिल है।

शर्टिंग के हैं मार्केट

कुर्ता फेब्रिक्स की यूं तो कपड़ा बाजार में अधिकृत मार्केट नहीं है और दर्जनभर व्यापारी इस कारोबार में सक्रिय है, लेकिन शर्टिंग का व्यवसाय सूरत में काफी पुराना है। इतना ही नहीं कपड़ा बाजार में कुछ टैक्सटाइल मार्केट की पहचान तो उनके नाम के साथ शर्टिंग कारोबार से जुड़ी हुई है। इनमें हरिओम मार्केट, राधे मार्केट, 451 टैक्सटाइल मार्केट समेत कुछ अन्य मार्केट भी हैं।

मोदी-योगी बन गए पसंद

कुर्ता फेब्रिक्स के व्यवसायी प्रदीप अग्रवाल ने बताया कि कोलकाता की कुर्ता मंडी देश की प्रमुख मंडी है और वहीं से सूरत में यह कारोबार आया है। हाल में कुर्ता फेब्रिक्स में मोदी-योगी कुर्ता की डिमांड को देख कपड़ा तैयार करवाया जाता है। कुर्ता फेब्रिक्स से पठानी, अचकन, जोधपुरी, कोटी, जैकेट, बंडी, पंजाबी, हैदराबादी, खादी, सिंधी, बंगाली, शेरवानी, नेहरु आदि कुर्ते बनते हैं।

भिवंडी-इचलकंरजी से ग्रे

कुर्ता फेब्रिक्स के लिए सिंथेटिक, विस्कॉस, कॉटन, लीलन, पोलिस्टर कॉटन आदि ग्रे क्वालिटी डिमांड व बाहरी मंडियों के ऑर्डर के मुताबिक यहां के व्यापारी मंगवाते हैं। प्रोसेसिंग के बाद वेल्यू एडीशन वर्क होता है। वैल्यू एडीशन वर्क की डिमांड भी अब कुर्ता फेब्रिक्स में बढऩे लगी है। यहां से प्रत्येक माह पांच-सात लाख मीटर कुर्ता फेब्रिक्स कोलकाता, मुंबई समेत अन्य मंडियों में ऑर्डर पर भेजा जाता है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned