नर्मदा बांध का टर्बाइन शुरू, कंपनियों के सिर से टला जल संकट

Mukesh Sharma

Publish: Apr, 18 2017 11:12:00 (IST)

Surat, Gujarat, India
नर्मदा बांध का टर्बाइन शुरू, कंपनियों के सिर से टला जल संकट

सरदार सरोवर नर्मदा बांध के रिवर बेड पावर हाउस के टर्बाइन चालू कर नर्मदा नदी में छोड़े जा रहे पानी के कारण

भरुच।सरदार सरोवर नर्मदा बांध के रिवर बेड पावर हाउस के टर्बाइन चालू कर नर्मदा नदी में छोड़े जा रहे पानी के कारण सूख रही नदी में थोड़ी जान आई। इसके अलावा जल संकट का सामना कर रही दहेज जीआईडीसी स्थित इंडस्ट्री के सिर से भी जल संकट टल जाने से कंपनियों के संचालकों ने राहत की सांस ली। मार्च के पहले सप्ताह से रिवर बेड पावर हाउस बंद चल रहा था, जिसके कारण नदी में पानी की कम मात्रा आ रही थी। रिवर बेड पावर हाउस के टर्बाइन को चालू करने के बाद नर्मदा नदी में 14 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है।


सरदार सरोवर नर्मदा बांध से नर्मदा नदी में पानी नहीं छोड़े जाने से दहेज जीआईडीसी स्थित कंपनियों के सामने जल संकट मंडराने लगा था। कंपनियों का उत्पादन भी घटकर 35 प्रतिशत के करीब पहुंचने लग गया। पिछले दो दिनों से बांध पर स्थित रिवर बेड पावर हाउस के दो टर्बाइन को चालू किया गया है, जिससे 14 हजार क्यूसेक पानी नर्मदा नदी में प्रवाहित हो रहा है। कंपनियों के सिर से फिलहाल जल का बना संकट टल गया है। नदी में नए पानी के आने से किसानों के अलावा मछुआरों को भी काफी राहत मिली है।

26 व 27 अप्रेल को नदी में ज्यादा पानी छोडऩे की बात कही जा रही है, क्योंकि इन दो दिन में दरिया से बड़ी भरती आने वाली है। दरिया की भरती के कारण दरिया का खारा पानी झनोर गांव तक पहुंच जाता है। नदी का जल स्तर कम होने से दरिया के पानी से नदी में क्षारीयता बढ़ जाती है। पिछले दो साल से नदी में क्षारीयता की समस्या ज्यादा हो गई है। पानी छोड़े जाने से भरती के समय आने वाले खारे पानी को वापस दरिया तक पहुंचाने में मदद मिल सकती है।

पिछले वर्ष की तुलना में स्थिति सुधरी

पिछले वर्ष अप्रेल माह में दहेज स्थित कंपनियों को पानी की समस्या का सामना करना पड़ गया था। जल संकट की वजह से 50 प्रतिशत कंपनियों को अपना उत्पादन बंद करना पड़ा था, इसके अलावा अन्य स्थानों से पानी को मंगाने के लिए बाध्य होना पड़ा। इस वर्ष अप्रेल माह में ही टर्बाइन चालू किए जाने से कंपनियों की स्थिति में सुधार हुआ है और अभी तक कंपनियों को पानी की तंगी नहीं झेलनी पड़ी।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned