जीण माता का चमत्कार देख औरंगजेब ने भी मानी थी हार, हर महीने भेजता था मां के लिए भेंट

Sunil Sharma

Publish: Mar, 04 2017 02:47:00 (IST)

Temples
जीण माता का चमत्कार देख औरंगजेब ने भी मानी थी हार, हर महीने भेजता था मां के लिए भेंट

राजस्थान के सीकर में स्थित जीण माता मंदिर में आकर मुगल शासक औरंगजेब को भी हार माननी पड़ी

हर प्राचीन हिंदू मंदिर अपने आप में एक इतिहास समेटे हुए हैं। राजस्थान के सीकर में स्थित जीण माता मंदिर भी ऐसी ही कई कहानियां अपने में समेटे हुए हैं। इस मंदिर में आकर मुगल शासक औरंगजेब को भी हार माननी पड़ी और देवी के आगे अपनी हार मानते हुए मंदिर में अखंड ज्योत जलाने का वचन दिया। उसने हर महीने सवा मन तेल इस ज्योत के लिए भेंट करने का संकल्प लिया जो उसकी मृत्यु के बाद भी जारी रहा।

यह भी पढें: यहां स्त्री स्वरूप में पूजते हैं राम भक्त हनुमान, दर्शन मात्र से ही पूरी हो जाती है मुराद

यह भी पढें: कष्टभंजन मंदिरः यहां हनुमानजी के चरणों में स्त्रीरूप में बैठे हैं शनिदेव, दर्शन मात्र से कट जाते हैं सारे पाप

यह भी पढें: करोड़पति बनना है तो शुक्रवार को करें ये उपाय, मां लक्ष्मी भर देगी आपके भंडार

ये है जीण माता की कहानी

किंवदंती है कि चौहान वंश के राजपूत परिवार में जन्मी जयंती अपने भाई हर्ष से बहुत प्रेम करती थी। एक दिन वह अपनी भाभी के साथ तालाब से पानी लेने गई। पानी लेते समय भाभी और ननद में इस बात को लेकर झगड़ा शुरू हो गया कि हर्ष किसे ज्यादा स्नेह करता है। इस बात को लेकर दोनों में यह निश्चय हुआ कि हर्ष जिसके सिर से पानी का मटका पहले उतारेगा वही उसका अधिक प्रिय होगा। दोनों ननद-भौजाई मटका लेकर घर पहुंची जहां हर्ष ने पहले अपनी पत्नी के सिर से पानी का मटका उतारा, जिससे जीण माता नाराज हो गई।

यह भी पढें: इस माता के मंदिर में चोरी करने से पूरी होती है हर मनोकामना

यह भी पढें: चिंतामन गणेश मंदिर, यहां भक्तों की हर इच्छा होती है पूरी

नाराज जयंती अरावली पर्वत के काजल शिखर पर पहुंच कर तप में लीण हो गई। कड़ी तपस्या के परिणामस्वरूप उनके चमत्कारों की चारों तरफ चर्चा होने लगी और उन्हें जीण माता का नाम दे दिया गया। बाद में भाई हर्ष को जब पूरे विवाद का पता चला तो वह भी बहन को मनाने पहुंचा। लेकिन नाराज जीण माता को देख वह भी वहीं पहाड़ी पर भैंरो की तपस्या करने लगा और भैंरो पद प्राप्त कर लिया। माना जाता है कि मंदिर आठवीं से दसवी सदी के बीच निर्मित हुआ था।

यह भी पढें: जीजी बाई का मंदिरः यहां मां दुर्गा को चप्पल चढ़ाने पर पूरी होती है हर मन्नत

यह भी पढें: मंदिर में भोलेनाथ ने दिखाया चमत्कार, शिवलिंग पर उभरी जटा और गंगा की धारा

औरंगजेब ने मानी थी हार

अपनी कट्टरता के लिए कुख्यात मुगल बादशाह औरंगजेब ने जीण माता के मंदिर को तोड़ने के लिए सेना भेजी थी। जब स्थानीय लोगों को यह बात पता चली तो वो बहुत दुखी हुए लेकिन शक्ति के अभाव में कुछ कर नहीं सकते थे। इस पर उन्होंने जीण माता से ही रक्षा का प्रार्थना की। प्रार्थना सुन माता ने अपना चमत्कार दिखाया और मधुमक्खियों के एक बड़े झुंड ने मुगल सेना पर हमला कर दिया।

मधुमक्खियों के हमले से पूरी सेना भाग खड़ी हुई। मुगल शासक औरंगजेब भी बीमार हो गया। इस पर उसने अपनी गलती स्वाकारी और माता के यहां अखंड ज्योत जलाने का वचन दिया और कहा कि वह हर माह सवा मन तेल मंदिर के लिए भेंट करेगा। इसके बाद उसकी तबीयत सही हुई। उसने जीते-जी अपने इस वचन को निभाया, औरंगजेब की मृत्यु के पश्चात जयपुर राजवंश ने इस परंपरा को जारी रखा।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned