गेहूं की खरीद न होने से किसान परेशान

Tikamgarh, Madhya Pradesh, India
गेहूं की खरीद न होने से किसान परेशान

परिवहन न होने से किसानों को अब बिचौलियों के चंगुल से बचाना मुश्किल नजर आ रहा

टीकमगढ़/दिगौड़ा. समर्थन मूल्य पर सरकारी केंद्रों पर खरीदी में जिम्मेदार लापरवाही बरत रहे हैं। कहीं जगह की कमी है तो कहीं परिवहन न होने से किसानों को अब बिचौलियों के चंगुल से बचाना मुश्किल नजर आ रहा है।  समय से खरीदी किए गए गेहूं का परिवहन न होने से सोसायटियों में जगह ही नहीं बची है। वहीं समिति के कर्ताधर्ता किसानों का अनाज खरीदने में अक्षमता जाहिर कर रहे है। ऐसे में किसानों को अपना गेहूं बेचने के लिए एक से दो दिन का इंतजार करना पड़ रहा है।
समर्थन मूल्य पर की जा रही गेहूं खरीदी में परिवहन की उचित व्यवस्था न होने के कारण सारी व्यवस्थाएं लडख़ड़ा गई है। क्षेत्र भर के किसान अपना गेहूं लेकर समिति पर पहुंच रहे है, लेकिन समिति के अधिकारी खरीदने में असमर्थता जाहिर कर रहे है। समय से परिवहन न होने के कारण सोसायटियों पर अब जगह ही नहीं बची है एेसे में आने वाले किसान परेशान हो रहे हैं।

समिति में गुजारी रात

गेहूं बेचने के लिए आए पुनौन निवासी किसान कल्लू रैकवार ने बताया कि वह बुधवार को अपना गेहूं लेकर आ गए थे। लेकिन यहां पर जगह न होने के कारण खरीदी नहीं की जा रही है। पूरी रात यहीं पर बिताई, लेकिन अभी गेहूं नहीं खरीदा गया है। यही हाल खैराई निवासी नत्थू घोष का था। उनका कहना था कि वह भी सुबह 3 बजे अपना गेहूं लेकर आए थे सुबह ठण्डे में गेंहू तुलवाकर वापस चले जाएंगे, लेकिन गेंहू खरीदा नहीं जा रहा है। 

जगह का अभाव

इस मामले में समिति के सहायक प्रबंधक मक्खन सिंह घोष का कहना है कि समिति में इस समय 2 हजार से अधिक बोरियां रखी हैं।  समिति के बाहर तक स्टॉक फैला हुआ है, ऐसे में माल चोरी  होने की भी संभावना है। उनका कहना है कि वह स्वयं कई बार परिवहन करने वाले ठेकेदार से बात कर चुके हैं,  लेकिन ट्रक नहीं भेजे जा रहे हैं। नायब तहसीलदार से कहने पर वह एक-दो ट्रक भेजते है और फिर माल नहीं उठाते।  

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned