कीड़े वाली खीर और कच्ची पूडिय़ों से मिटा रहे कुपोषण?

Widush Mishra

Publish: Jun, 20 2017 08:30:00 (IST)

Tikamgarh, Madhya Pradesh, India
कीड़े वाली खीर और कच्ची पूडिय़ों से मिटा रहे कुपोषण?

जिले में बढ़ रहे कुपोषण के कारण सरकार ने भले ही इसे विशेष चिंहित जिलों में शामिल किया हो और प्रशासन भी कुपोषण का दंश मिटाने हर संभव प्रयास कर रहा हो, लेकिन पोषण आहार का काम संभालने वाले समूह पर इसका कोई असर पड़ता नही दिखाई दे रहा है।



टीकमगढ़। जिले में बढ़ रहे कुपोषण के कारण सरकार ने भले ही इसे विशेष चिंहित जिलों में शामिल किया हो और प्रशासन भी कुपोषण का दंश मिटाने हर संभव प्रयास कर रहा हो, लेकिन पोषण आहार का काम संभालने वाले समूह पर इसका कोई असर पड़ता नही दिखाई दे रहा है। लगातार प्रकाशित हो रही खबरों एवं निरीक्षण के बाद भी पोषण आहार की गुणवत्ता में काई सुधार होता नही दिखाई दे रहा है।
नगर के आंगनवाड़ी केन्द्रों पर वितरित होने वाले पोषण आहार की गुणवत्ता में कोई सुधार होता नही दिखाई दे रहा है। मंगलवार को जब महिला बाल विकास विभाग के सहायक संचालक आशीष जैन ने सांसद द्वारा पोषण आहार की जांच करने के लिए नियुक्त किए गए प्रतिनिधि एवं जिला सहकारी बैंक के पूर्व अध्यक्ष विवेक चतुर्वेदी के साथ पोषण आहार की जांच की तो फिर से समूह की लापरवाहियां दिखाई दी। आशीष जैन ने बताया कि पोषण आहार को लेकर मिल रही शिकायतों एवं प्रकाशित खबरों के बाद कलेक्टर ने इसकी जांच के निर्देश दिए है। इसके लिए उन्होंने विधायकों एवं सांसदों से अभिमत मांगा है। इसी के तहत आंगनवाड़ी केन्द्रों का निरीक्षण कर पोषण आहार की जांच की जा रही है। इसका प्रतिवेदन सांसद के अभिमत के साथ कलेक्टर को सौंपा जाएगा। इसके बाद कार्रवाई की जाएगी।
खीर में निकले कीड़े: पोषण आहार की जांच करने पुरानी टेहरी के केन्द्र क्रमांक 2 ब में पहुंची टीम को यहां पर आई खीर में छींगुर के साथ अन्य कीड़े मिले। वहीं आशीष जैन ने बताया कि यहां पर जो पुडिय़ा आई थी वह भी ठीक से पकी नही थी। मंगलवार को भी पोषण आहार के साथ बच्चों को मिलने बाली सब्जी नदारद थी। आशीष जैन ने बताया कि वहीं के 1 द की कार्यकर्ता ने बताया कि यहां पर बच्चों की संख्या के हिसाब से पोषण आहार नही आया था। कुछ बच्चों को एक-एक पूड़ी ही दी गई। इसके साथ ही दल ने केन्द्र 1 अ, 1 स, 2 ब एवं सौंरयाना का भी निरीक्षण किया। यहां पर भी बच्चों के पोषण आहार में से सब्जी गायब थी और पुडिय़ां कच्ची थी।
कम नही हो रही लापरवाहीं: विदित हो कि पोषण आहार का वितरण कर रहे समूह द्वारा लंबे समय से लापरवाहियां की जा रही है। समूह द्वारा जहां बच्चों को खाने के साथ नाश्ता भेजा रहा है वहीं इसकी गुणवत्ता पर भी सवाल खड़े हो रहे है। इस संबंध में पत्रिका द्वारा लगातार खबरों का प्रकाशन कर प्रशासन का ध्यान आकर्षित कराया जा रहा है। इसके बाद प्रशासन ने भी बच्चों के पोषण आहार के मामले को गंभीरता से लेते हुए इसका निरीक्षण करने टीम का गठन किया है।
आखिर क्यों नही बदला जा रहा समूह: एक ओर जिले में कुपोषित बच्चों की संख्या में जमकर इजाफा हो रहा है तो दूसरी ओर लाख लापरवाहियों के बाद भी महिला बाल विकास विभाग एवं प्रशासन द्वारा समूह को नही बदला जा रहा है। सूत्रों की माने तो वर्तमान में चल रहे समूह में कुछ विभागीय अधिकारियों एवं कर्मचारियों की भी हिस्सेदारी है। यही कारण है कि इस समूह की लापरवाहियों को नदर अंदाज किया जा रहा है।
कहते है अधिकारी: कलेक्टर के निर्देशन पर यह निरीक्षण किया जा रहा है। समूह द्वारा भेजे गए पोषण आहार की खीर में कीड़े मिले थे। पूडिय़ां भी कच्ची थी। इसका पूरा प्रतिवेदन कलेक्टर को सौंपा जाएगा। इसके बाद कार्रवाई की जाएगी।- आशीष जैन, सहायक संचालक, महिला बाल विकास विभाग।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned