वीडियो...दिव्यांगों के पहले नैन मिले, फिर दिल, अब बनेंगे जीवनसाथी

Lalit Saxena

Publish: Feb, 16 2017 09:47:00 (IST)

Ujjain, Madhya Pradesh, India
 वीडियो...दिव्यांगों के पहले नैन मिले, फिर दिल, अब बनेंगे जीवनसाथी

महाकाल प्रवचन हॉल में अक्सर धार्मिक और सांस्कृतिक कार्यक्रम होते हैं, लेकिन गुरुवार को यहां का वातावरण और रंगत कुछ और ही थी। युवक-युवती काउंटर जाकर जानकारियों का दस्तावेजीकरण करा रहे थे। 

उज्जैन. महाकाल प्रवचन हॉल में अक्सर धार्मिक और सांस्कृतिक कार्यक्रम होते हैं, लेकिन गुरुवार को यहां का वातावरण और रंगत कुछ और ही थी। खुशनुमा वातावरण में युवक-युवती और उनके परिजन एक-एक काउंटर जाकर जानकारियों का दस्तावेजीकरण करा रहे थे। उज्जैन में 6 मार्च को दिव्यांग जोड़ों का वैवाहिक आयोजन होने जा रहा है। इसमें कम से कम 101 दिव्यांग जोड़ों के विवाह का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। 






अब तक 94 दिव्यांग जोड़े 
अब तक 94 दिव्यांग जोड़े विवाह के लिए पंजीकृत हो चुके हैं। इसी क्रम में गुरुवार को महाकाल प्रवचन हॉल में दिव्यांग जोड़े और इनके परिजन का मिलन समारोह आयोजित किया गया। इसमें में एकत्र 94 दिव्यांग जोड़ों की विभिन्न जानकारियों का दस्तावेजीकरण किया गया। इसके अलावा परिजन ने मिलकर विवाह की तैयारियों और कार्यों के संबंध में चर्चा की। भावी दंपती भी नजर चुराकर अपने जीवन साथी को निहारने में पीछे नहीं थे। मूक-बधिर इशारों से अपनी भावनाएं जाहिर कर रहे थे तो जो नि:शक्त थे वे एक-दूसरे के साथ मिलकर दस्तावेजीकरण की प्रकिया को अंजाम देने में जुटे थे। दिव्यांग युवक-युवती अपने जीवनसाथी की एक झलक पाने के लिए उत्सुक नजर आ रहे थे। आत्मीय और मंगल घड़ी की तैयारियों के साथ कुल मिलाकर वातावरण विवाह पूर्व सगाई जैसा था।

 registered for marriage

पास-बुक और एटीएम
मिलन समारोह में बैंक ऑफ इण्डिया ने कुछ जोड़ों के खाता खोलकर प्रतिकात्मक तौर पास बुक और एटीएम प्रदान किए। महिदपुर तहसील के ग्राम डूंगरखेड़ी निवासी गंगाराम नग्गाजी, ग्राम ढेंडिया निवासी संगीता का बैंक ऑफ इंडिया महाकाल शाखा द्वारा सबसे पहले खाता खोला गया। सिंहस्थ मेला प्राधिकरण के अध्यक्ष दिवाकर नातू कलेक्टर संकेत भोंडवे, एलडीएम आरके तिवारी एवं शाखा प्रबंधक महाकाल आरएस चौहान पास बुक, चेकबुक एटीएम कार्ड ने गंगाराम तथा संगीता को सौंपे। दिव्यांग जोड़े को राज्य शासन द्वारा दी जाने वाली 50 हजार रु.की प्रोत्साहन राशि विवाह पश्चात उनके खाते में उपलब्ध करवाई जाएगी।

समान कद से मिल गए मन
आमतौर पर शादी-ब्याह के मामले में कद, काठी-रंग, रूप को वरीयता पर परखा जाता है, लेकिन दिव्यांग विवाह समारोह में एक जोड़ा ऐसा भी विवाह सूत्र में बंधने जा रहा है जिसमें युवक और युवती दोनों का कद समान रूप से ढाई फीट है। राहुल मालवीय शाजापुर और कविता सिसौदिया तराना तहसील की है। प्रशासन द्वारा आयोजित परिचय सम्मेलन में दोनों कद मिल तो राहुल-कविता के मन भी मिल गए। परिजनों ने रिश्ते तय किए थे। राहुल की माता सुनीता का कहना था कि बेटे के कद के कारण इसके भविष्य लेकर चिंता थी। अब वे इस बात पर खुश थी कि आखिर उन्हें अपनी बहू के रूप में एक बेटी भी मिल गई। राहुल के दो और छोटे भाई है।

इशारों को समझ चुना जीवन साथी
मिलन समारोह में जानकारियों के सत्यापन के लिए परिजन के साथ आए उज्जैन के अब्दुल हमीद और कांटाफोड़ की छोटी मूक-बधिर है। छोटी ने बहन से सांकेतिक भाषा में बताया कि परिचय सम्मेलन के दौरान एक-दूसरे को देखने के बाद इशारों को समझ विवाह की बात से परिजनों को अवगत करा दिया था। दोनों पक्षों की प्रारंभिक बातचीत के बाद निकाह के लिए सहमति बन गई।


यह भी पढ़ें...     navratri-festival-1511103/" target="_blank">देखें वीडियो...सज रहे भोले बाबा...निराले दूल्हे में...महाकाल में शिवरात्रि उत्सव


 registered for marriage

प्रशासन भी जुटा तैयारी में
दिव्यांग जोड़ों का वैवाहिक आयोजन 6 मार्च कान्हा वाटिका में होगा। 5 मार्च को मेहंदी, हल्दी और महिला संगीत की रस्म होगी। 6 मार्च को विवाह होगा। इसमें मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान को आमंत्रित किया गया है। विवाह के लिए कान्हा वाटिका और भोजन संजय खंडेलवाल द्वारा दिया जा रहा है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned