मन को आनंदित करता महाकाल का ये शृंगार, आप भी करें दर्शन

Lalit Saxena

Publish: Apr, 20 2017 11:47:00 (IST)

Ujjain, Madhya Pradesh, India
मन को आनंदित करता महाकाल का ये शृंगार, आप भी करें दर्शन

राजाधिराज भगवान महाकाल के दरबार में गुरुवार को हुई भस्म आरती के दौरान आकर्षक शृंगार किया गया। बाबा महाकाल के दर्शन कर हर भक्त धन्य होता है। 

उज्जैन. राजाधिराज भगवान महाकाल के दरबार में गुरुवार को हुई भस्म आरती के दौरान आकर्षक शृंगार किया गया। बाबा महाकाल के दर्शन कर हर भक्त धन्य होता है। भगवान महाकाल के प्रतिदिन अनूठे शृंगार होते हैं, गुरुवार को भी ऐसा ही अद्भुत शृंगार किया गया, जो भक्तों के मन को आनंदित कर गया। ज्योतिर्लिंग श्रीमहाकालेश्वर पर चंदन से स्वरूप बनाया, भक्तों ने इस निराले रूप के दर्शन किए तो पूरा हॉल जयकारों से गूंज उठा। वहीं भोग आरती में ढोल-नगाड़े, शंख-झालर और भक्तों की करतल ध्वनि गूंज रही थी।

shringar-darshan-of-mahakal-today-20 april

विभिन्न शृंगारों से सज्जित भोले बाबा 
भोले बाबा राजाधिराज भगवान महाकाल के मुख पर चंदन का त्रिपुंड था। गले में पुष्पों की माला शोभा बढ़ा रही थी। भक्तों को प्रतिदिन अनूठे दर्शन होते हैं। भांग और ड्रायफ्रूट का शृंगार हर दिन किया जाता है। तरह-तरह के सूखे मेवे भी शृंगार में उपयोग किए जाते हैं। बाबा का यह रूप बड़ा ही मनोहारी होता है। विविध प्रकार के शृंगारों में भांग शृंगार सबसे अनूठा और खास माना जाता है। 

shringar-darshan-of-mahakal-today-20 april

भस्मी से स्नान
बाबा महाकाल सुबह भस्मी से स्नान करते हैं। उनके इस रूप का दर्शन पाकर हर कोई धन्य होता है। वे तन पर भस्मी लगाते हैं और मृगछाला ओढ़कर भक्तों को धन-धान्य का आशीर्वाद देते हैं। उनक एक झलक पाने को हर दिन श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ती है। जब भोले भस्मी रमाए बैठते हैं, तो उनका स्वरूप बड़ा ही मनोहारी नजर आता है। गर्भगृह में चारों तरफ भस्मी फैली होती है। जिससे ऐसा लगता है, मानों भक्त बाबा के हिमालय पर्वत पर दर्शन कर रहे हों। बाबा अनेक रूपों में भक्तों को दर्शन देकर धन्य करते हैं। महाकाल मंदिर में अनेक छोटे-बड़े मंदिर हैं। इनके दर्शन के लिए भी श्रद्धालु पहुंचते हैं। 


यह भी पढ़ें....     simhastha-flashback-19-april-how-to-forget-those-memories-1557079/" target="_blank">सिंहस्थ फ्लैशबेक... शाही स्नान से दो दिन पूर्व चढ़ा था सनातन धर्म का रंग


shringar-darshan-of-mahakal-today-20 april

भोग आरती में भोले का अनूठा शृंगार
हर दिन सुबह 10.30 बजे नियमित भोग आरती होती है। गुरुवार को बाबा महाकाल का दिव्य शृंगार किया गया। (यह खबर आप पत्रिका डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं)। पंडे-पुजारी इनका अनोखा शृंगार करते हैं। फिर बाबा महाकाल को नैवेद्य का भोग अर्पण किया जाता है। भोग आरती में बाबा कुछ इस अंदाज में नजर आए।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned